Facebook Posts 2015 Oct

http://facebook.com/drckraut से संग्रहित कुछ महत्वपूर्ण पोस्ट: २०१५ अक्तूबर तक के

विषय-सूची

  1. समसामयिक प्रश्न: २०७२ कार्तिक ७
  2. ‍‍‍अपील: २०७२ भाद्र २५ गते
  3. अब क्या देखना बांकी है ?
  4. संविधान भी जारी हो गया। क्या मिला ? फिरंगी नेपाली सेना और पुलिस की गोली और लाठी के अलावा ?
  5. प्रश्न: जब प्रदेश नहीं दे रहा है, तो देश कैसे देगा ?
  6. सिर्फ जोर-जोर से हिचकोला लगाना पर्याप्त नहीं होता
  7. खाली हथौडा चलाने से उपलब्धि नहीं मिलेगी
  8. हथौडा अपनी हथेली पर चलाना है या कील पर ?
  9. गुलामी का गोलचक्कर
  10. कब तक सिर्फ काँटो के पीछे पडे रहोगे ?
  11. वालू के रेत पर लिखने जैसा
  12. ६५ वर्ष से आन्दोलन करते रहने से क्या मिला ?
  13. वह नेपाल का संविधान है, मधेश का नहीं
  14. नेपाली साम्राज्यमा मधेशीहरूको विगत १० वर्षका केही उपलब्धिहरू
  15. कब मिलेगा ‘स्वायत्त मधेश एक प्रदेश’ ?
  16. इधर से देता है, उधर से सब कुछ छीन लेता है…
  17. अन्तिम आन्दोलन
  18. सौ बार उछलना
  19. कागज का टुकडा जलाओगे, पर गुलामी की रस्सी बांधे रहोगे ?
  20. बच्चों जैसी बातें ? ये बचपना …
  21. मधेश की नैया
  22. जो लड़ा वही सिकन्दर / सभी क्रान्तिकारी नेता और कार्यकर्ताओं से अपील
  23. आप परिचालित है, इस पर आप क्या कहना चाहेंगे ? (इस पोस्ट को पूरा पढें)
  24. मधेश र पहाड़ बीच कुन अविकसित?
  25. और इन्तजार बहुत महँगा पड़ेगा
  26. पार्टी की लगानी बचाने
  27. प्रदेश-प्रदेश करके और कुछ वर्ष झगडते रहो, बंगाल की जैसी भूखमरी दूर नहीं
  28. मधेश का अस्तित्व ही मिटा देगा!
  29. मधेशियों का भ्रम तो टूटे !
  30. पूरै नेपालमाथि मधेशीले कब्जा गर्नुपर्छ भन्नेहरूका लागि:
  31. जूकालाई टाँसि राख्ने ?
  32. ‘सिके राउत कहाँ है ? सडक पर क्यों नहीं आते ?’ पूछने वालों को चुनौती
  33. स्वराजियों ने क्या किया ?
  34. सिके राउत सडक पर क्यों नहीं है ?
  35. प्रश्न: आप इन नेताओं से मिलकर क्यों नहीं आते ? आप आन्दोलन में क्यों नहीं आते ?
  36. अहिंसात्मक मार्ग
  37. पत्थर फेंककर भागना समाधान नहीं, संयमता और बुद्धि लगाने से ही सफलता मिलेगी
  38. ३० वर्ष से राजनीति कर रहा हूँ !
  39. चाहे अपने रोके या गैर, कोई फर्क नहीं
  40. सर पे गोली चल जाती है, पर सर से गुलामी नहीं जाती
  41. आजादी वीरों की चाह है,
  42. सुवह का भूला
  43. प्रश्‍न: क्या अब भी गठबन्धन को अभी के आन्दोलन में नहीं उतरना चाहिए ?
  44. मधेशी जनता सक्रिय है, सचेत नहीं
  45. ७५ दिन आन्दोलन !
  46. BATNA (मोर्चा और नेपाल सरकार बीच हो रही वार्ता के सन्दर्भ में)
  47. जनमतसंग्रहलाई एजेन्डा बनाए आन्दोलन हुने – डा. सी. के. राउत

 

 


 

समसामयिक प्रश्न: २०७२ कार्तिक ७

अभी डा. सी.के. राउत क्यों नहीं निकल रहे हैं ?

–          हमारी “मौनता” ही इस आन्दोलन के लिए सबसे बडा समर्थन है। अगर हम शुरु से फिल्ड पर आ जाते तो क्या होता ? यह आन्दोलन हाइज्याक होकर शुरुमें ही सरकार इसको “विखण्डनवादी” का आन्दोलन कह देता, मधेशियों पर और ज्यादा दमन करता क्योंकि मधेशी पार्टी भी दमन करने में साथ देती। इससे मधेश में ज्यादा हिंसा फैल सकती थी। और सारी चीजों के लिए झूठा आरोप मधेशी पार्टियां उल्टा हम सभी पर लगा देती। इसलिए शांत रहकर ही हमने मधेशी पार्टियों को ‘चान्स’ दिया है कि जितना लेना है ले लिजिए और संविधान-सभा से संविधान  जारी करके दिखलाइए, और दिखलाइए कि संघीयता से क्या-क्या मिल सकता है।

स्वायत्त मधेश प्रदेश पहले ले लेते हैं…उसके लिए साथ दिजिए न ? उसमें क्यों नहीं साथ दिया ?

–          हमारी मांग ‘आजाद मधेश’ का है, मधेश प्रदेश का नहीं, तो हम क्यों अपने सिद्धान्त से विचलित होंगे ?

 

–          ६५ वर्षों से स्वायत्त मधेश के लिए ही लड रहे हैं, पर क्या मिला ? और जिस चीज से हम स्पष्ट जानते हैं कि मधेशियों को कुछ मिलने वाला नहीं है, उसमें हम भी कैसे साथ दें ? हाँ, इसमें समझिए हमारी मौनता ही सबसे बडा समर्थन है, आखिर स्वायत्त मधेश लाने के लिए आन्दोलन को डिस्टर्ब तो नहिं किया, कहीं आपके विरोध-सभा तो नहीं किया।

 

–          आप  निकलेंगे अपनी-‍अपनी पार्टियों के झंडा लेकर, प्रदेश का मांग लेकर, तो उसमें डा. सि. के. राउत क्या करने निकलेंगे ? आप स्वतन्त्र मधेश का झंडा उठाइए, आजाद मधेश का नारा दिजिए, और देखिए डा. सिके राउत कैसे हाजिर नहीं होते हैं।

‍मधेश रहेगा तब न मधेशी ?

–          मधेश प्रदेश बनने से ही मधेश थोडे बच जाएगा, क्योंकि मधेश के अस्तित्व के लिए सबसे ज्यादा खतरा फिरंगी सेना और पुलिस, आप्रवासन और नागरिकता की समस्या है। फिरंगी सेना और सशस्त्र पुलिस मधेशी उपर दमन करके मधेशियों को विस्थापित कर रहें हैं। आप्रवासन की समस्या से पहाडी लोग मधेश की जमीन पर  कब्जा जमाकर बैठ रहे हैं और पिछले ६० बर्ष में ६% से बढकर ३६% हो गए। नागरिकता की समस्या से प्रशासन मधेशियों को अनागरिक बनाकर विस्थापित कर रहे हैं। तो मधेशियों की अस्तित्व बचना या न बचना इन ३ प्रमुख चीजों पर निर्भर है, मधेश प्रदेश बनने या न बनने पर नहीं। और इन ३ओं समस्या का समाधान मधेश प्रदेश नहीं, मधेश अलग देश बनने से ही हो पाएगा। तभी ही मधेश बच पाएगा।

संविधान संशोधन करा लेते हैं…नहीं होगा ?

–          आज आप संशोधन करा देंगे, पर उसे उलटाने में कितनी देरी लगेगी क्योंकि पहाडियों के पास तो दो-तिहाई जब भी मौजूद रहेगा.

अब क्या करना पडेगा ?

–          सबसे पहली बात है पुरानी मांग और संविधान संशोधन के भ्रम से मुक्त हों, क्योंकि वह कभी खत्म नहीं होनेवाला गोलचक्कर है। दूसरी बात, ‘स्वतन्त्र मधेश’ का लक्ष्य लें और उसके आन्दोलन में जूटें।

–          स्वतन्त्र मधेश के आन्दोलन से जुडें, तुरन्त प्रशिक्षण लें, गाँव-गाँव जाएँ, समिति बनाएँ, और आन्दोलन की तैयारी करें।

–          आप कहीं भी कार्यक्रम रखवाना चाहते हैं तो सम्पर्क करें।

–          प्रचार-प्रसार के लिए REV/RES कार्यक्रम संचालन करें (फलेक्स, डिविडी, कोणसभा आदि करके प्रचार-प्रसार करें)

–          जब तैयारी सशक्त दिखेगी, गाँव-गाँव समिति गठन हो जाएगा, उसी समय आन्दोलन शुरु हो जाएगा।

 

 

 


 

‍‍‍अपील: २०७२ भाद्र २५ गते

जनतालाई अब भ्रममा नराखी अन्तरिम मधेश/तराई संसद्गठन गर्दै स्वतन्त्र मधेश/तराई देशको लागि संयुक्त रूपमा शांतिपूर्ण आन्दोलन अगाडी बढाउन अपील: २०७२ भाद्र २५ गते 

आदरणीय मधेश/तराईका सम्पूर्ण जनताहरू,
संयुक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा,
संघीय लोकतान्त्रिक मोर्चा,
संघीय समावेशी मोर्चा,
थरुहट/थरुवान संघर्ष समिति,
थारु कल्याणकारी सभा,
कोचिला गाभुर फ्रन्ट,
मधेश नागरिक समाज,
मधेशी नागरिक समाज
लगायत मधेश/तराई/थरुहट/कोचिलामा आन्दोलित सम्पूर्ण पार्टी, संघ-संगठन तथा सरोकारवालाहरू,

झंडै एक महीनादेखि मधेश/तराईमा चलिरहेको आन्दोलनमा यहाँका जनता, नेता, कार्यकर्ता, पार्टी र मोर्चाहरू तथा विभिन्न सरोकारवाला समूहहरूले देखाएको प्रतिबद्धता र योगदान निकै नै सराहनीय छ। यस क्रममा शहादत प्राप्त गर्नुहुने सबैमा हाम्रो तर्फबाट उच्चतम सम्मान अर्पण गर्दै आन्दोलनको नेतृत्व गर्नु हुने तथा सहभागी भएर आन्दोलन सशक्त बनाउने सबैलाई हामी धन्यवाद पनि दिन चाहन्छौं।

आज हामी मधेश/तराईको ऐतिहासिक तथा निकै नै संवेदनशील मोडमा खड़ा छौं र हामी सबैले एकपटक गम्भीर भएर सोच्नैपर्छ। शांतिपूर्ण तरीकाले अधिकार माग्दा जुन तरीकाले नेपाली सेना र सशस्त्र प्रहरी लगाएर सिंगो मधेश/तराईलाई दमन गरिँदैछ, उचित मागलाई वेवास्ता गर्दै मधेश/तराईको जनताको नरसंहार र विस्थापित गर्ने अपरेशन चलाइदैछ, त्यसले ‘स्वतन्त्र मधेश/तराई’ बाहेक अरू कुनै पनि कुराले हाम्रो अस्तित्व बचाउन न सक्ने कुरा आम-जनतालाई समेत झन् छर्लंग भएको छ। जुन देशमा शांतिपूर्ण तरीकाले बोल्न समेत दिइरहेको छैन, सभा-सम्मेलन र बैठक समेत गर्न दिइरहेको छैन, र अधिकार माग्दा नेपाली सेना र सशस्त्र प्रहरी लगाएर गोली बर्साउने काम हुन्छ भने त्यो देशमा संघीयता आउँदैमा वा स्वायत्त मधेश/तराई प्रदेश बन्दैमा के फरक पर्छ ?

के प्रदेशहरू बने पछि, वा २२ बूँदे वा ८ बूँदे सम्झौता कार्यान्वयन हुँदैमा, यी अति नै महत्वपूर्ण तथा आधारभूत कुराहरू पूरा हुनेछन् ?

१. के नेपाली फिरंगी सेना मधेश/तराईबाट फर्केर जानेछन् ? र त्यसको ठाउँमा मधेश/तराईकै सेना हुनेछ ? होइन भने, मधेश/तराईमा जतिखेर पनि नेपाली सेना लगाएर हरेक संविधान, नियम, कानूनलाई खारिज गर्न सकिनेछ। मधेश/तराईमा नेपाली सेना रहेसम्म कुनै संविधान, नियम, कानून केहीले कुनै मायना नै राख्दैन, त्यसमा केही लेखाउनु-नलेखाउनुले कुनै अर्थ नै राख्दैन। त्यही भएर ‘आत्मनिर्णय सहितको स्वायत्त मधेश/तराई’को कुरा संविधानमा लेखाउने कुरा होस् कि साधारण शांतिपूर्ण रूपमा बोल्न र भेला हुन पाउने अधिकार — नेपालको संविधानमा केही लेखाउनाले मधेश/तराईको जनताको लागि फरक पर्दैन। किनकि सेना जसको हुन्छ, संविधान पनि उसकै हुन्छ। नेपालको संविधान सभामा मार्शल (सेना) लगाएर प्रकिया पूरा गरिनुदेखि लिएर अहिले नेपाली सेना परिचालित गरेर मधेश/तराईका जनताहरूको सबै अधिकार खोस्दै मुख समेत बन्द गरिनु यसको प्रत्यक्ष प्रमाण हो।

२. के मधेश/तराईको जनताको लागि अति नै महत्वपूर्ण नागरिकता नीति, विदेश नीति र सुरक्षा नीति मधेश/तराई प्रदेश कै हातमा हुनेछ ? होइन भने, जतिखेर पनि नेपाली शासकले मधेश/तराईको लाखौं जनताको नागरिकता समेत खारेज गर्न सक्नेछ, कसलाई नागरिकता दिने कसको खारिज गर्ने नेपाली शासकले आफ्नो मनोमानि गरिराख्नेछ, जतिखेर पनि खुला सीमाना बंद गर्न सक्छ, जति मन लाग्यो त्यति सेना र सशस्त्र कैम्प मधेश/तराईमा खड़ा गरी यहाँका जनतालाई दमन गर्न सक्छ।

३. के मधेश/तराईमा पहाडीहरू आएर बस्ने र कब्जा गर्ने क्रम रोकिनेछ ? नभए बिगत ५० वर्षमा मधेश/तराईमा पहाडीहरू ६% बाट बढेर ३३% भइसके भने अर्को २०-२५ वर्षमा के हुने हो ? यहाँका बांकी जिल्लाहरूको हालत पनि झापा,चितवन र कंचनपुर जस्तै हुनेछ, र मधेश/तराईका जनताहरू विस्थापित भएर शरणार्थी बन्न पुग्नेछन्, बचेकाहरू दास बन्न पुग्नेछन्।

४. मधेश/तराईको जागिर मधेश/तराईकै जनतालाई नै दिइने ग्यारेन्टी हुन्छ ? कुनै पनि हालतमा हुँदैन, किनकि पहाडबाट जुनसुकै ठाउँका मान्छे आएर मधेश/तराई को जागिर गर्न सक्नेछन्, सबै सिडिओ/एसपी, प्रशासक र कर्मचारीहरू पहाडी नै हुन सक्नेछन् र हुनेछन्। यहाँसम्म कि ओखलढुंगा वा जुम्लाका पहाडीहरू मधेश/तराई प्रदेशको मुख्यमंत्री बन्न सक्नेछन्।

५. मधेश/तराईको जल, जमीन, जंगल, खानी, राजस्व, वैदेशिक सहयोग लगायतका साधन-स्रोतमाथि मधेश/तराई प्रदेश कै नियन्त्रण हुनेछ ? यहाँ त प्रदेशहरूलाई एउटा जिल्ला विकास समिति जत्तिको पनि अधिकार न दिइने व्यवस्था हुन गइरहेको छ।

अहिले नै त नेपाली सेनाले संविधानबाट ‘लोकतान्त्रिक’ र ‘समावेशी’ शब्द हटाइ सक्यो, प्रहरी होस् कि अदालत कि लोकसेवा आयोग, प्रदेशलाई केही नदिने व्यवस्था हुँदैछ भने त्यस्तो प्रदेशहरूबाट के आशा गर्ने ?

आज यदि नेपाली शासक दुई-तिहाई बहुमतले संविधान बनाइरहेका छन् र त्यसलाई हामीले निकै बलिदानी दिएर आन्दोलन मार्फत् रोक्न आज सफल भए पनि, मधेश शांत भएपछि फेरि दुई-तिहाई बहुमतले संविधानका धाराहरू परिवर्तन गर्न नेपाली शासकलाई कति दिन लाग्ला? एक दिन पनि लाग्दैन। त्यसैले कति पटक हामीले महिनौं सम्म आन्दोलन गरिराख्ने र बलिदानी दिइराख्ने ? एउटा जाबो नागरिकताकै लागि १०० वर्ष अगाडि पनि बलिदानी दियौं, अहिले पनि त्यही नागरिकताको अधिकारको लागि बलिदानी दिइराखेका छौं, र यही बाटो रोजिराख्ने हो भने अर्को १०० वर्ष पछाडी पनि त्यही नेपाली नागरिकताको लागि मधेश/तराईका जनताहरूले बलिदानी दिनु पर्ने हुन्छ।भनेपछि त्यही दासताको बाटोमा सदियौं हिंडिराख्नु कतिको उचित छ ?

र आन्दोलन गरेर, बलिदानी दिएर अधिकार आखिर सुनिश्चित गर्ने कहाँ हो, लेखाउने कहाँ हो? त्यही नेपालको संविधानमा न हो ? तर नेपालको संविधानमा मधेश/तराईको जनता अनुकुल केही कुरा लेख्दै वा न लेख्दैमा के फरक पर्छ ?अहिले नेपालको संविधानमा धारा १३८ मा अधिकारसम्पन्न स्वायत्त प्रदेशको कुरा त लेखिएकै थियो, फेरि त्यही कुराको लागि किन बलिदानी दिनु परेको छ त, किन आन्दोलन गर्नु परेको छ त? त्यस्तै नेपालको संविधानमा मधेश/तराईका जनतालाई सेनामा न राख्ने वा नागरिकता न दिने भनेर त लेखेको छैन। तैपनि नेपाली सेनामा कति % मधेश/तराईका जनता छन्? तैपनि किन मधेश/तराईका दसौं लाख जनता नागरिकताविहिन छन् ? त्यसैले नेपालको संविधानमा केही लेखे पनि, न लेखे पनि मधेश/तराईको जनताको लागि केही फरक पर्दैन, त्यो नेपालको संविधान हो, मधेश/तराईको होइन।

स्वायत्त मधेश/तराई र समानुपातिक समावेशी कुनै आजको माग होइन, २००८ सालमा नै ‘तराई कांग्रेस’ले सशक्त रूपमा प्रमुख मागको रुपमा उठाएको थियो। अर्थात् विगत ६५ वर्षदेखि त्यही कुराको लागि मधेश/तराईका जनताले बलिदानी दिए, आन्दोलन गरे, तर के पाए ? नेपालमा मधेश/तराई गाभिएको २०० वर्ष भइसक्दा त यहाँका जनताले साधारण नागरिकताको अधिकार पाउन सकेका छैनन् भने नेपाली साम्राज्यबाट मधेश/तराईका जनताले अरू के नै पाउने आशा गर्न सक्छन्?
त्यही भएर नेपाली साम्राज्यबाट अधिकार पाउने नाममा अझ पर्खनु सर्वथा अनुचित र आत्मघाती हुनेछ, अझ पर्खनुले हाम्रो अस्तित्व नै मेटिने खतरा हुन्छ। ६५ वर्ष अगाडि स्वायत्त मधेश/तराईको माग उठदा मधेश/तराईमा केवल ६% मात्रै पहाडी थिए, तर अधिकारको नाममा पर्खदा-पर्खदा आज मधेश/तराईका आदिवासीहरूलाई विस्थापि गर्दै पहाडीहरू ३३% भन्दा बढी हुन पुगे। अधिकारको नाममा पर्खदा सीधै गोली हान्ने अधिकार सहित आंगन-आंगनमा नेपाल सशस्त्र प्रहरी पुगिसके, गाउँ-गाउँमा बन्दुक बोकर नेपाली सेना छिरिसके, भने अझै पर्खे के हुने हो ? अहिले नै दसौं हजारको संख्यामा झापा र कैलालीका आदिवासीहरू विस्थापित हुँदै शरणार्थी बनिरहेका छन्, भने अझै पर्खे मधेश/तराईमा कति मूलवासीहरू बांकी रहला र?

आज एउटा सीमांकन सच्चाउनका लागि त यति ठूलो आन्दोलन गर्नु परेको छ, यति धेरै बलिदानी दिनु परेको छ भने अन्य अधिकार पाउनका लागि कति चोटि आन्दोलन गरिराख्नु पर्ला ? र अघि नै भनि सकिएको छ, यदि आन्दोलनको राप पश्चात् संविधानमा अहिले सच्चाई हाले पनि पुन: जनता शान्त भएपछि त्यो कुरा दुई-तिहाईले फेरि उल्टाउन नेपाली शासकलाई एक दिन पनि लाग्नेछैन्। अनि त्यस्तो क्षणिक उपलब्धिका लागि मधेश/तराईका जनताले बारम्बार महिनौं आन्दोलन गरिराख्नु र मरिराख्नु कसरी उचित हो ?

आज हरेक गाउँ-गाउँमा, अधिकांश जुलुस र सभाहरूमा ‘स्वतन्त्र मधेश/तराई’ को नारा गुञ्जिनु जनता स्वयं ‘स्वतन्त्र मधेश/तराई’को पक्षमा रहेको भन्ने कुरा प्रष्ट हुन्छ, तर अहिलेसम्म नेतृत्ववर्गबाट नै जनताको त्यस आकांक्षालाई अन्यत्र मोडने काम भइरहेको हुँदा त्यसलाई सच्चयाई आन्दोलनलाई ‘स्वतन्त्र मधेश/तराई’ को गन्तव्यतिर डोर्‍याउनु हामी सबैको उत्तरदायित्व भएको कुरा यस्तो गम्भीर मोडमा हामी सबैले बुझ्नै पर्ने हुन्छ।

तसर्थ मधेश/तराईका जनतालाई अझै पनि कुनै हालतमा भ्रममा राखिनुहुन्न र मधेश/तराईमा आन्दोलनरत तथा सरोकारवाला समस्त पक्षहरू ‘स्वतन्त्र मधेश/तराई’को निर्णायक आन्दोलनको लागि संयुक्त रुपमा लाग्‍न ‘स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन’ उनीहरूसँग विनम्र अपील गर्दछ। सोको लागि गठबन्धन हरेक किसिमले पहल गर्न र सहकार्य गर्न तैयार रहेको कुरा पनि समस्त जनतालाई साक्षी राखी अवगत गराउन चाहन्छ। आन्दोलनको शुरुवातको लागि मधेश/तराईका सभासद्हरूले औचित्यहीन नेपालको संविधानसभाबाट राजीनामा दिएर मधेश/तराईको नागरिक समाज समेत मिलाई ‘अन्तरिम मधेश/तराई संसद्’ गठन गरेर मधेश/तराई देशको स्वतन्त्रताको उद्‍घोष गर्दै अन्तर्राष्ट्रिय मान्यताका लागि अविलम्ब सार्वजनिक अपील गरिनुपर्छ भनेर हाम्रो मान्यता रहेको छ।

डा. सी. के. राउत
संयोजक, स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन (AIM)

बोधार्थ:
१. श्री उपेन्द्र यादव
२. श्री महन्थ ठाकुर
३. श्री राजेन्द्र महतो
४. श्री महेन्द्र राय यादव
५. श्री अनिल कुमार झा
६. श्री मातृका यादव
७. श्री जय प्रकाश गुप्ता
८. श्री विजय कुमार गच्छदार
९. श्री राजकिशोर यादव
१०. श्री शरत्‌सिंह भण्डारी
११. श्री धनीराम चौधरी
१२. श्री समिम अंसारी
१३. श्री भरत राजवंशी
१४. डा. डम्बर नारायण यादव
१५. श्री गणेश कुमार मण्डल

 

 



अब क्या देखना बांकी है ?

संविधान भी जारी हो गया। क्या मिला ? फिरंगी नेपाली सेना और पुलिस की गोली और लाठी के अलावा ?
वार्ता, सम्झौता और संविधान संशोधन के धोखा में मत पडिए, वह कभी खत्म न होनेवाला अनन्त गोलचक्कर है, नेता लोग मंत्री बनेंगे, पर मधेशियों को कोई अधिकार नहीं मिलेगा
इसलिए, चल भैया आजादी लें, चल बहना आजादी लें
मधेश आजाद होते ही १०ओं लाख मधेशियों की नौकरी पक्की

६५ वर्षों से ‘मधेश स्वायत्त प्रदेश’ के लिए आन्दोलन करने पर और सैकडौं बलिदानी देने के पश्चात् संघीयता सहित नेपाल के संविधान बनने से ही मधेश और मधेशियों को क्या मिला ?

(१) फिरंगी नेपाली (पहाडी) सेना और पुलिस वापस हो गई और मधेशी सेना बन गई ?

(२) मधेश में पहाडियों का आना और मधेश की जमीन पर कब्जा करना रुक गया ?

(३) नागरिकता, सुरक्षा और विदेश नीति मधेशियों के हाथों में आ गई ?

(४) मधेश की नौकरियां मधेशबासी को ही मिलने की गारेन्टी हो गई ?

(५) साधन-स्रोत, भन्सार, खानी और वैदेशिक अनुदान पर मधेश का ही पूर्ण अधिकार कायम हो गया ?

(६) ‘समग्र मधेश, एक अखंड प्रदेश’ कायम हो गया ?

(७) अब मधेश में नेपाली सेना और पुलिस लगाकर मधेशियों का नरसंहार और दंगा नहीं होगा ?

(७ में से कितना पूरा हुआ, कितना प्वाइंट ?)

ये सभी अति महत्त्वपूर्ण बातें मधेश एक आजाद देश बनने के बाद ही पूरी होगी। अभी के मधेश प्रदेश या संघीयता की सच्चाई तो यह है कि मधेश में भी सिडिओ से लेकर एसपी तक, कर्मचारी से लेकर व्यापारी तक पहाडी ही रहेगा। ओखलढुंगा और रोल्पा से आकर पहाडी लोग ही मधेश का मुख्यमंत्री बनेंगे। फिरंगी नेपाली सेना और सशस्त्र पुलिस मधेश की गलीगली में लगाकर मधेशियों का नरसंहार होता रहेगा। नेपालियों (पहाडियों) की ही सेना, सशस्त्र पुलिस और अदालत रहेगी। नेपालियों का ही कानून रहेगा और मधेशियों को नागरिकता से बंचित करता रहेगा। मधेश को खंडखंड करके मधेशियों को सदा के लिए गुलाम बना दिया जाएगा, मधेशियों को भगाकर शरणार्थी बना दिया जाएगा।

अब अपना अस्तित्व बचाने का केवल एक ही विकल्प है: स्वतन्त्र मधेश। नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतन्त्र हो! मधेश आजाद होने पर अपना देश होगा, हम गुलामी से मुक्त होंगे, सब कुछ अपना होगा: अपना संविधान, अपनी सेना, अपनी पुलिस, अपनी सरकार, अपना प्रशासन, अपनी कर्मचारी। मधेश में मधेशबासियों को ही नौकरी होने की गारेन्टी होगी और १०ओं लाख मधेशियों को तुरन्त नौकरी मिलेगी (१ लाख सेना ही चाहिए, १ लाख पुलिस, लाखों कर्मचारी आदि)। नागरिकता से लेकर सुरक्षा और विदेश नीति तक अपने हाथों में होगी। साधन-स्रोत, खानी, राजस्व, भंसार और वैदेशिक अनुदान सभी अपने हाथों में होगा। हम अपना विकास अपने हिसाब से कर पाएँगे। सारी लगानी मधेश में ही रहेगी। फिरंगी नेपाली सेना और सशस्त्र पुलिस मधेश से वापस होगी, वे मधेशियों का नरसंहार नहीं कर पाएगी, मधेशियों को भगाकर शरणार्थी नहीं बना पाएगी।

विलायत की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से पिएच. डी. किए हुए तथा ‘मधेश का इतिहास’, ‘वीर मधेशी’, ‘मधेश स्वराज’ और ‘वैराग से बचाव तक’ किताब लिखने वाले वैज्ञानिक डा. सी. के. राउत के नेतृत्व में चल रहे ‘आजादी आन्दोलन’ में हिस्सा लेने के लिए सम्पर्क:madhesh.com/join

‘आजादी आन्दोलन’ शुरु हो चुका है। आप अपनी जगहों पर नेतृत्व लें और यह नारा गुंजने दें:

स्वतन्त्र मधेश, जिन्दाबाद ! आजाद मधेश, अपना देश !

 

 


 

प्रश्न: जब प्रदेश नहीं दे रहा है, तो देश कैसे देगा ?

image002

वह अपने मकान का एक फ्लोर आपके नाम नहीं करेगा, पर आप अलग घर तो बना सकते है।

प्रदेश उससे लेने की चीज है, पर देश खुद बनाने की चीज। इसलिए ‘समग्र मधेश एक प्रदेश’ का मिलना या न मिलना नेपाली शासक (केन्द्र) पर निर्भर है, उसकी ईच्छा पर निर्भर है, पर ‘मधेश देश’ मधेशियों की अपनी ईच्छा पर निर्भर है, अपने उपर निर्भर है। इसलिए ६५ वर्ष स्वायत्त मधेश प्रदेश के लिए लडने पर भी वह नहीं मिला क्योंकि वह नेपाली शासको की कृपा पर निर्भर है, परन्तु अगर मधेशी जनता अपना ‘स्वतन्त्र मधेश’ देश के लिए ईच्छा करें तो वह १-२ वर्ष के भीतर भी बन सकता है।

यानि,
नेपाल देश/राज्यसत्ता नेपाली शासकों का बंगला है और उसमें मधेशी पार्टी एक प्रदेश मांग रही हैं यानि एक कमरा (कोठा)। अब बताइए, आप काठमांडू में जाकर किसी बंगले के नेपाली मालिक को कहिएगा कि एक फ्लोर या कमरा आपके नाम कर दे और आपको दे दे, तो देगा ? आपको क्यों देगा? उसका है, वह २०० वर्ष से भोगचलन करता आया है, तो आपको क्यों देगा ? ६५ वर्ष तो क्या सौ वर्ष भी मांगते रहियेगा, गिडगिडाते रहियेगा, तो नहीं देगा। अगर कुछ दिन के लिए मेजमान की तरह ठहरने दे भी दें, तो फिर उसकी मालिकियत में रहना पडेगा, उसका कायदा-कानून से रहना पडेगा, वह कब आपको निकालकर फेंक दे, उस पर निर्भर रहेगा।

पर अगर आप चाहे, तो अपना खुद का अलग घर बना सकते हैं कि नहीं ? वह खुद का घर बनाना आपकी ईच्छा पर निर्भर करता है, आपके मेहनत पर निर्भर करता है, उस नेपाली मकान मालिक के ईच्छा पर नहीं। और अपने घर में किसी फिरंगियों की मालिकियत नहीं रहेगी, बल्कि अपने घर के मालिक हम होंगे। आप कहेंगे खुद का घर बनाने के लिए पैसा या पूँजी चाहिए ? हाँ, इसलिए तो कह रहा हूँ अपना घर बनाने के लिए मेहनत करना पडेगा। घर बनाने की पूँजी पैसा है , और देश बनाने की पूँजी जनता और जनमत। हम स्वतन्त्र मधेश के लिए अटूट जनमत तैयार कर लें, तो मधेश देश तो यूं ही बन जाएगा।


image003

 

वीर मधेशी अपनी सोच से लाखों गुणा ज्यादा कर सकते हैं।
बस क्षणिक लोभ-लालच और भ्रम को त्याग कर हिम्मत करने की जरूरत है।
आजादी बहुत ही करीब है।

मधेश के मोड-मोड चौक-चौराहे पर अब बस आजादी ही गुँजती है,
आप भी कहीं से भी आजादी आन्दोलन से जुडें

 


 

 

सिर्फ जोर-जोर से हिचकोला लगाना पर्याप्त नहीं होता

image004

सिर्फ जोर-जोर से हिचकोला लगाना पर्याप्त नहीं होता,
किनारा पाने के लिए दिशा महत्वपूर्ण है,
वरना नैया मझदार में सदियों गोलचक्कर काटती रहेगी और थकित होकर तुम्हारा अंत हो जाएगा।
वह दिशा सिर्फ आजादी है।
जितनी जल्दी हो इसे जाने, और उसी अनुरुप करें, यही बेहतर है।


 

खाली हथौडा चलाने से उपलब्धि नहीं मिलेगी

जब तक लक्ष्य या निशाना सही न हो, खाली हथौडा चलाने से घायल ही होगे, उपलब्धि नहीं मिलेगी। सही लक्ष्य है: आजादी। आजादी लाओ, सम्पूर्ण अधिकार स्थायी रुप से पाओ

image006

 


 

हथौडा अपनी हथेली पर चलाना है या कील पर ?
लक्ष्य सही रखें, तभी काम होगा। स्वतंत्र मधेश लक्ष्य रखें, तभी आन्दोलन सफल होगा। वरना धोखा ही धोखा मिलेगा, और कुछ नहीं। इसलिए आजाद मधेश, अपना देश -नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतंत्र हो, नारा हर जगह गुंजने दें।

image008

हथौडा जोर से चलाना ही काफी नहीं होता, उस हथौडे के नीचे हम अपनी हथेली रखते हैं या कील, परिणाम उसी अनुसार निकलता है। दुर्भाग्यसे मधेशियों ने हथौडा तो बहुत बार चलाया, परन्तु दिग्भ्रमित होकर आज तक हथौडे के नीचे अपनी हथेली रखते रहे और सिर्फ घायल होते रहे।

ऊर्जा होना पर्याप्त नहीं होता। ऊर्जा को हम कहाँ प्रयोग करते हैं, उपलब्धि वहीं से निर्धारित होता है। मधेशियों के पास ऊर्जा और वीरता की कभी कमी नहीं रही। परन्तु मधेशियों ने सदैव अपनी ऊर्जा नेपाली राज में झूठे अधिकार पाने के नाम पर खर्च करते रहे और परिणाम स्वरूप सिर्फ धोखा खाते रहे, सदियों से घायल होते रहे। अगर उस ऊर्जा के आधे भी स्वतन्त्रता के लिए खर्च किए होते, तो मधेश कब का स्वतंत्र हो चुका होता।

 


 

गुलामी का गोलचक्कर

गुलामी के गोलचक्कर में गोलगोल कब तक घुमेंगे ? आजादी लाएँ, सम्पूर्ण अधिकार सदा के लिए पाएँ…मधेश आजाद होते ही १०ओं लाख मधेशियों की नौकरी पक्की

image010
जि:
क्या नेपाल के संविधान में अधिकार सुनिश्चित करने से नहीं होगा?

डॉ:
संविधान उसका होता है, जिसके पास सेना होती है। जिसकी सेना नहीं, उसका क्या संविधान? सेना लगाकर कभी भी संविधान को निलम्बन किया जा सकता है, और नेपाल में संविधान टिका है कितना?

अभी मर-मर के अधिकांश मधेशी लोग इस तरह से कर रहे हैं कि जैसे संविधान में एक बार लिखा देंगे, तो सारा काम खत्म! संविधान तो हर १०–१५ वर्ष में टूटा हैं यहाँ, पूरे परिवर्तन आए हैं, तो मधेशियों के मामले में कितने दिन टिकेगा संविधान? जैसे मधेशी ठंड पडेंगे, फिर पलट लेगा संविधान। देखा नहीं, स्वायत्त मधेश तो मधेश आन्दोलन के बाद समझौता में था, सेना में भी समानुपातिक प्रतिनिधित्व, पर कहाँ गए वे? कितने मधेशी सेना में भर्ती हुए? ३००० मधेशियों की भी भर्ती नहीं हो सकी।

और क्या अभी नेपाल के संविधान में मधेशियों को दूसरे दर्जा पर रखा गया है, क्या मधेशियों को नागरिकता नहीं देने के लिए कहा गया है? नहीं, तो फिर इतने मधेशी लोग अनागरिक क्यों हैं, मधेशी क्यों अपनी ही भूमि पर दूसरे दर्जे के नागरिक हो गए हैं? बताइए। खाली लिख देने से नहीं होता है न!

इस लिए ऐसे संविधान बनते रहेंगे, टूटते रहेंगे, जब तक मधेशियों के पास अपना देश, अपनी सेना और अपना संविधान नहीं होता, चाहे जितनी भी उपलब्धियाँ दिखा दें, सब मिथ्या हैं, क्षणिक हैं।

संविधान बस वृक्ष का एक फल है, जैसा वृक्ष वैसा ही फल। और यहाँ तो एक फल जो एक महीने में सड़ जाता है, उसे शासकों से पाने के लिए हम वर्षों संघर्ष करते हैं, और हाथ में आते-आते ही सड़ जाता है। हमें फल के लिए नहीं,अपना वृक्ष लगाने के लिए लगना चाहिए, जहाँ पर हरेक साल फल लगेगा। स्वराज कल्प-वृक्ष है और संविधान फल। अपना वृक्ष रहेगा तो फल तो खाते रहेंगे।

जि:
अगर संघीय-राज्य प्रणाली आ जाएगी तो सब कुछ ठीक नहीं हो जाएगा? तब हम अपने तरीके से राज्य चला सकते हैं।

डॉ:
ऐसा क्या चमत्कार हो जाएगा संघीयता के आने से?

१. क्या संघीयता सम्पूर्ण मधेश को अखण्ड रखकर एक राज्य होने की गारन्टी करती है?

२. क्या वह मधेशियों की जमीन पुन: नहीं छीने जाने की और नेपालियों/पहाड़ियों को मधेश में नहीं बसाए जाने की गारन्टी करती है?

३. क्या वह मधेश के प्रशासक मधेशी होने की गारन्टी करती है? नहीं तो, बाद में भी नेपाली अधिकारियों द्वारा इसी तरह से कर्फ्यू लगाकर मधेशियों पर आक्रमण होता रहेगा और नेपाली शासक द्वारा इसी तरह से शोषण जारी ही रहेगा।

४. क्या वह ऋतिक रोशन कांड और नेपालगंज घटना जैसे सुनियोजित जातीय सफाया के षड्यन्त्र कराके मधेशियों पर फिर लूटपाट और आक्रमण नहीं होने की गारन्टी करती है?

५. क्या वह मधेश के काम-काज और नौकरियाँ मधेशी को ही मिलने की गारन्टी करती है? कि बाहर से नेपाली लोगों को बुलाकर दी जाएगी?

६. क्या वह मधेश की सम्पूर्ण आय और दाता राष्ट्रों से प्राप्त अनुदानों का समुचित भाग मधेश में लगानी होने की गारन्टी करती है? कि मधेश को खाली विश्व बैंक और एडीबी का ऋण ढोना पड़ेगा?

७. क्या वह देश भीतर और बाहर रहे मधेशियों की पहचान की समस्या को समाधान करेगी? क्या तब धोती, इंडियन और मर्सिया कहके नहीं बुलाया जाएगा?

८. क्या वह मधेश के साधन-स्रोत, जल, जमीन और जंगल पर पूर्णत: मधेशियों का अधिकार होने की गारन्टी करती है?

९. क्या वह मधेश की नागरिकता, सुरक्षा और वैदेशिक नीति मधेशियों के हाथों में होने की गारन्टी करती है?

१०. क्या वह मधेश से नेपाली सेना पूर्णत: हटाकर पूर्ण मधेशी सेना बनाने की गारन्टी करती है? नहीं तो कभी भी नेपाली सेना को परिचालन करके केन्द्रीय नेपाली सरकार कुछ भी कर सकती है, कोई संविधान भी लागू कर सकती है,कुछ भी नियम-कानून लगवा सकती है। केन्द्रीय सरकार आपातकालीन स्थिति की घोषणा करके मधेशियों के सम्पूर्ण अधिकार मिनट भर में ही निलम्बन कर सकती है। क्या इसे हम अपनी उपलब्धि मानें? क्या इसे हम सम्पूर्ण मधेशियों के बलिदान और संघर्ष का मोल माने?

तो ऊपर की १० आधारभूत और महत्त्वपूर्ण बातों में से कितनी बात संघीयता या आजादी के अलावा कोई अन्य राजनैतिक व्यवस्था दिला सकती है? बताइए।

क्यों गांधी और मंडेला ने आजादी के बदले विलायत के अधीन में रहते हुए संघीयता को स्वीकार नहीं किया? देखिए ऐसी बातें कुछ आइएनजीओ और संघ-संस्थाएँ पत्र-पत्रिकाओं में उठवा देती हैं, उसके लिए फंड रिलिज कर देती हैं, और उस पर लोग भागते रहते हैं, होटल और रिसोर्ट में लेक्चर देते फिरते हैं। पर मधेशियों के लिए वह वास्तविक समाधान नहीं है।

image012


 

कब तक सिर्फ काँटो के पीछे पडे रहोगे ?

image013

नेपाली फिरंगियों के राज में किस मधेशी के पास विभेद, दुर्व्यवहार, शोषण या अत्याचार का मुद्दा नहीं है ? यह बात अलग है कि बस दो-चार मुद्दे ही कभी-कभार मीडिया या अदालत में दिख पाते है: जैसे कभी सेना में भर्ती का मुद्दा,कभी पुलिस में मधेशी कोटा का मुद्दा, कभी शैक्षिक संस्थानों में कोटा का मुद्दा, कभी नेपाली पोशाक वापसी का मुद्दा, कभी नागरिकता का मुद्दा, कभी बजेट विनियोजन का मुद्दा, तो कभी क्या तो कभी क्या ! बात है जब पेड़ काँटे का हो तो उसमें आम थोड़े ही फलेंगे ?

इसलिए जरूर सोचें कि अपने खेत में जंगली काँटे के वृक्ष को जड़ से उखाडकर आम का पेड़ लगाना वुद्धिमता है कि जंगली काँटे के वृक्ष की टहनी को काटने में पुष्तों-पुष्ता अपना श्रम, शक्ति और साधन-स्रोत व्यर्थ में खर्च करना।

मधेश स्वराज: “जैसे एक वृक्ष में एक ओर से काँटेवाली टहनी निकलती है, हम शोर करते है और उसे कटवा देते हैं। तब तक फिर दूसरी ओर से निकल जाती है, फिर उसको कटवाते हैं। फिर तीसरी ओर से निकलती है, और तब तक पुरानी टहनी फिर से पनप जाती है। हम कटवाते जाते हैं, पर वह सिलसिला रूकता नहीं, और कई बार हम तो देख नहीं पाते, कई बार हमें काटने की शक्ति नहीं रहती और हम काटों में जीने पर विवश हो जाते हैं, और कई बार हम लहु-लहुवान होकर भी काट नहीं पाते। सोचने वाली बात है कि जब वृक्ष बबूल का है, तो उससे काँटे वाली टहनी ही न निकलेंगे, उसमें आम थोड़े ही फलेंगे। अगर आपको आम खाना है तो उस जंगली बबूल को अपनी भूमि से सदा के लिए उखाड़कर फेंकना होगा, और वहाँ आम के पौधे लगाने होंगे। जब तक हम जंगली बबूल के वृक्षों को, जो हमारे खेतों को पूरी तरह ढ़क चुके हैं, उन्हें जड़ से उखाड़कर उनकी जगह आम के पौधे नहीं लगा लेते, यह सारे समाधान बेकार है। मधेशियों के मुद्दों को लेकर आज लोग अदालत जाते हैं, सड़क आन्दोलन करते हैं, सरकार में शामिल हो जाते हैं, नए संविधान बनाने की बात करते हैं, यह कोई भी बात औपनिवेशिक दासता से मुक्ति नहीं दिला सकती।” वश स्वराज ही एक मात्र मार्ग है।

 

 


 

वालू के रेत पर लिखने जैसा

मधेशियों के लिए समझौता, अधिकार, संघीयता और संविधान की बातें करना बालू पर लिखने समान है, जिसे नेपाली राज और सेना की लहरें पल भर में मिटा देती हैं। क्या उसी के लिए बार-बार आन्दोलन करते रहें और दर्जनों मधेशी बलिदानी देते रहे?

image014

 


 

६५ वर्ष से आन्दोलन करते रहने से क्या मिला ?

image015

केवल एक नागरिकता के लिए, हमारे
परदादा ने खून बहाया,
दादा-दादी ने खून बहाया,
माँ-बाप ने खून बहाया,
हम खून बहा रहे हैं,
हमारे बच्चे खून बहा रहे हैं,
और नजाने
हमारे पोता-पोतीको भी खून बहाना पडेगा
परपोताको भी खून बहाना ही पडेगा…

और नागरिकता का अधिकार मिलने की वजाय, दिन-प्रति-दिन जो था, वह भी छीनता ही गया…
आखिर क्यों ?


image017image019

 

 

वह नेपाल का संविधान है, मधेश का नहीं
मधेश का संविधान तो अभी लिखा जा रहा है मधेश में। फिर भी, मित्र राष्ट्र नेपाल को संविधान के प्रथम ड्राफ्ट के लिए बधाई, आपने *अपने लिए* बहुत ही बेहतरीन किया है। हमें पूरा विश्वास है मधेश का संविधान इससे लाखों गुणा बेहतर होगा।


 

नेपाली साम्राज्यमा मधेशीहरूको विगत १० वर्षका केही उपलब्धिहरू
– मतदाता नामावलीबाट लाखौं मधेशीको नाम हटाइयो । मधेशीहरू मताधिकारबाट वंचित।
– नागरिकताको अधिकार खोसियो।
– बोल्ने अधिकारबाट वंचित गरियो, मधेशीको वाक्-स्वतन्त्रता हरण गरियो
– १ मधेश १ स्वायत्त प्रदेश तुहिय
– मधेशीलाई दिइने गरेको आरक्षण पहाडीलाई दिइयो, आरक्षण नै खारेज गर्ने प्रावधान ल्याइयो
– विशेष सुरक्षा परियोजनाका नाममा APF ल्याएर मधेशको गल्ली-गल्ली र मोड-मोड मै राखियो।
– अर्धसैनिक बल सशस्त्र प्रहरीलाई समेत पक्राऊ पूर्जीको अधिकार दिएर मधेशी विरुद्ध परिचालन गरियो।
– ८०% भन्दा बढी सेना र प्रहरी मधेश मैं ल्याएर थुप्राइयो।
– मधेशीलाई दबाउनका लागि विभिन्न मुलुकबाट अत्याधुनिक हातहतियारहरू किनियो।
– सैकडौं मधेशी युवाहरूलाई इन्काउन्टर गरियो, हजारौंलाई जेल भित्र कोचियो
– मधेशीको घर-घरमा घुसेर नेपाली प्रहरी र सेनाले पिटन थाले
– दंगा मचाएर नेपालीहरूले मधेश मैं मधेशीहरूलाई पिटन थाले, गाउँमा आगो लगाउन थाले, मधेशीलाई धपाउन थाले
– मधेशी आदिवादी मूलवासीको जमीन कब्जा गर्दै, उनीहरूलाई विस्थापित गर्दै, पहाडीहरूलाई ल्याएर बसाइयो
– राजस्व र कर बढेर आकाशियो (चाहें ईंट होस् या खाद्यान्न)
– मोड-मोड मैं नेपाल प्रहरी र ट्राफिक राखेर जबरदस्ती मधेशीबाट घूस लिइयो, पैसा वसूली गरियो
– मधेशका हजारौं स्कूल र कलेजहरूलाई बंद गरियो, र मधेशीलाई पढनबाट वंचित गरियो।
– शिक्षा प्रणालीलाई भ्रष्ट बनाएर ध्वस्त गरियो ताकि कुनै राम्रो विद्यार्थी न निस्कून् र सबै कामदारको रुपमा विदेशिऊन्
– लाखौं लाख योग्य मधेशी युवाहरूलाई बेरोजगार बनाइयो
– मधेशी युवाहरूलाई फेल हुन लगाएर मलेशिया र खाडी मुलुकमा बेचियो।
– गाउँमा बचेका महिलाहरूलाई नेपाल प्रहरीले झगडा लगाएर शोषण गरियो।
– पहाडबाट मधेशी कर्मचारीहरूलाई धपाइयो।
– बोल्ने कर्मचारीहरू, शिक्षकहरूलाई अख्तियार लगाएर फँसाइयो
– मधेशबाट सरकारी कार्यालयहरू, मेडिकल र इंजिनियरिंग कलेज, उद्योग-कारखानाहरु पहाडतिर सारियो।
– मधेशीलाई “मधेशी हूँ” भनेर प्रमाणित गर्न पहाडी सिडिओको खुट्टामा ढोग्नु पर्ने भयो।
– मधेशी पार्टीहरूलाई विभिन्न प्रलोभन दिँदै तोडफोड गरी तहसनहस गर्दै ध्वस्त पारियो, विलिन पारियो र नैतिक धरातल नै पातालमा पुर्‍याइयो
– कसैलाई आयोगको लोभमा, कसैलाई राजदूतको लोभमा त कसैलाई एनजिओको आडमा लगाएर मधेशी बुद्धिजीविहरूलाई किनियो, उनीहरूको नैतिक र बौद्धिक धरातल ध्वस्त पारियो
– जंगल मासियो, खोलानालाका सबै ढुंगा-गिट्टी-वालुवा विदेशीलाई बेचियो, मधेशीले ल्याउदा गोली चलाइयो
– मधेशको चुरे पर्वत काटेर बेचियो
– ईँटा भट्टा खोलेर मधेशको ऊर्बर माटो काटेर बेचियो
– सिँचाई व्यवस्थालाई ध्वस्त पारी, मलखाद र बीउ ल्याउन नदिई मधेशको कृषि व्यवस्थालाई कहिले न उठने गरी ध्वस्त पारियो
– जमीनको भाऊ अप्राकृतिक रुपमा आकासिन लगाई मधेशीले कमाएर ल्याएको सबै पैसा खिचियो
– मधेशको आर्थिक अवस्था जर्जर बनाइयो, मधेशका जिल्लाहरू सबभन्दा गरीब र असाक्षर जिल्लाहरू बने
– मधेशीको स्वास्थ्यसँग खेलवाड गरियो, मधेशीहरूलाई मर्न दिइयो (बालमृत्यु दर, कुपोषण देखि सिकलसेल एनेमिया)
– सामाजिक कुरुतिहरूलाई फैलिन दिई मधेशी समाजलाई ध्वस्त बनाइयो
– मधेशको भाषा, वेशभूषालाई बलात्कार गरियो (याद होला उपराष्ट्रपति कांड)
– मधेशी राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, न्यायधीश बनिसके पनि कुकुरको भन्दा बढी हैसियत नहुने साबित गरियो
– सीमा क्षेत्रमा यातना दिने क्रम बढयो, मधेशी महिलाहरूमाथि नेपाली प्रहरीहरूले ज्यादती गरे
– सीमा आरपार खाली हात गर्न पनि दु:ख र सास्ती दिन थालियो
– संविधानको नाममा सैकडौं वर्षदेखि पाइरहेको अधिकार पनि खोसियो, मधेशीलाई संवैधानिक रुप मैं दास बनाइयो भन्दा पनि हुन्छ
…आदि


 

कब मिलेगा ‘स्वायत्त मधेश एक प्रदेश’ ?

image021

ऊ….तारा देखत हौ छोटका दू………र……में
उहे ‘स्वायत्त मधेश एक प्रदेश’ ह
उहे मधेशी के अधिकार ह

केवल २०० वर्ष और इंतजार करीं न
तब मिल जाईं
तब उहे जाके बैठम

तब तक खून देते रहो हमरे लिए
और हम काठमांडू में बैठ के मस्ती मारते रहें
——> आपका अपना ही, काठमांडू में बैठे मधेशी नेता और अगुवा
निर्णय आपको करना है,
और इंतजार करके अपनी बची हुई लंगोटी भी खोना चाहते हैं,
कि अब स्वराज लाना चाहते हैं ?


 

इधर से देता है, उधर से सब कुछ छीन लेता है…

image022

ले ले बाबा… उसने दी चौवन्नी, चुराई चप्पल, पर हम खुश हैं, क्या बात है !

आखिर,
समझौता, आयोग, कुर्सी की भीख कब तक ?
बदले में तो मधेशियों की लंगोटी भी गायब !

 


 

अन्तिम आन्दोलन

पिछले ६५ वर्षों में कितनी बार मधेशी नेताओं ने कहा कि यह ***अन्तिम*** आन्दोलन है, कितनी बार? क्या आप गिन सकते हैं ? उनके लिए कितने मधेशियों ने बलिदानी दी, क्या आप गिन सकते हैं ? पिछले ६ महिनों में ही मधेशी नेताओं ने कितनी बार कहा कि ‘यो अन्तिम लडाईं हो’ और खून माँगा मधेशियों से। और राजाराम झा से लेकर रामअशीष ठाकुर तक शहीद हो गए, सैकडों मधेशी ने बलिदानी दी, और मधेशियों को उल्लू बनाते हुए मधेशी नेता काठमांडू में बैठकर सत्ता और भत्ता खाते रहे, भोज खाते रहे। और फिर वही बात ? इसे क्या कहते हैं ?

image024

 

image026

अब सिर्फ आन्दोलन होगा तो मधेश आजादी के लिए।
नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतन्त्र हो। जय मधेश, अपना देश।

 


 

सौ बार उछलना

image028

क्या सौ बार उछलते रहने से मकान की आखिरी मंजिल पर पहुँच जाओगे ? या उसके लिए धैर्य से सीढी बनाना/चढना होगा ?

मधेश आन्दोलन – १ को माग: २२ बूँदे सम्झौता
मधेश आन्दोलन – २ को माग: मधेश आन्दोलन १ को माग पूरा गर
मधेश आन्दोलन – ३ को माग: मधेश आन्दोलन २ को माग पूरा गर
मधेश आन्दोलन – ४ को माग: मधेश आन्दोलन ३ को माग पूरा गर
मधेश आन्दोलन – ५ को माग: मधेश आन्दोलन ४ को माग पूरा गर
मधेश आन्दोलन – ६ को माग: मधेश आन्दोलन ५ को माग पूरा गर
मधेश आन्दोलन – ७ को माग: मधेश आन्दोलन ६ को माग पूरा गर

नेपाली साम्राज्य में जब तक मधेश रहेगा और जब तक मधेशियों का अस्तित्व डायनोसर की तरह दुनियाँ से खत्म न हो जाय, तब तक यही चलता रहेगा।

विना ‘विजन’ और ‘तैयारी’ के सैकड़ौं बार सडकपर उछलते रहोगे और बलिदानी दोगे, तो भी मंजिल तक नहीं पहूँचोगे। पर धैर्य और संयमता से आजाद मधेश के लिए ‘स्टेप’ बनाते हुए आगे बढे, तो मंजिल तक जरूर पहूँचोगे।

 


 

कागज का टुकडा जलाओगे, पर गुलामी की रस्सी बांधे रहोगे ?

image030

अंधेरा को चाहे लाखों बार सरापो, गाली करो, गुस्सा करो, मारो, पीटो – उससे अंधेरा दूर नहीं होता। वह तो तब दूर होता है जब तुम एक दिये जलाते हो। उसी तरह खाली शिकायत, विरोध और विद्रोह करने से समस्या समाधान नहीं होती,वहाँ समाधान देना आवश्यक है, और वह समाधान, वह आशा का एक ही दिया, आजादी है।

 

नहीं तो नेपाली शासन, संविधान, सत्ता, नेता को इसी रह सैकडों वर्ष और कोसते रहेगो, विभेद और अत्याचार है कहके लाख चिल्लाते रहोगे, उसके लिए सैकडों बलिदानी देते रहोगे, पर अंधेरा की तरह वह खत्म नहीं होगा जब तक तुम स्वतन्त्रता के दिये नहीं जलाते।

 

इसलिए देर न करो – अब भी अपने दिल में झांको, मन से ठान लो और मिट्टी उठाकर कसम खा लो: नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतन्त्र हो। स्वतन्त्र मधेश, अपना देश।

 


 

बच्चों जैसी बातें ? ये बचपना …

image032

मम्मी,
नेपालियों ने मुझे यूपी बिहार जाने के लिए बोला,
मेरी जमीन छीन ली,
मुझे नागरिकता नहीं दे रहा है,
मुझे धोती बोला,
कोई अधिकार नहीं दे रहा है,
यहाँ विभेद है, वहाँ विभेद है,
नौकरी नहीं मिलता,
काठमांडू में पीटा,
संविधान में लतिया दिया,
२ महिने से आमहडताल फिर भी आवाज नहीं सुन रहा है,
वार्ता में नहीं बुला रहा है,
लात मार रहा है,
गोली चला रहा है,

आखिर यह बच्चों जैसे रोनाधोना कब तक ?
कब तक बच्चों जैसे खाली “नेपालियों ने मुझे ये कर दिया, वो कर दिया” कहके रोते ही रहोगे, १०० वर्ष से तो बच्चों जैसा रो ही रहे हो, गिडगिडा ही रहे हो, और भीख ही माग रहे हो !
अब Grow up! र अपना मधेश देश बनाओ !
सारे झमेला खत्म करो।


 

मधेश की नैया

image034

जब मधेश की नैया डुबेगी, तब आप भी अपनी जान, पद, पैसा, धन-सम्पत्ति, बाल-बच्चा कैसे बचा पाइएगा ? आखिर आप भी तो मधेश की नैया पर सवार हैं। अभी आप कहते हैं मेरे पास टाइम नहीं है, यह मेरा काम नहीं है, पर आप जिस नैया पर सवार हैं, वही डूब जाएगी, तो काम का क्या करेंगे और सोने की थाली जमा करके ही क्या करेंगे ? क्योंकि जब मधेश की नाव डूबेगी तो सब लेकर डूबेगी। तो बेहतर यही है कि हम अपनी जिम्मेबारी को शीघ्र समझे, और मधेश की नैया को डूबने से बचाएँ…मधेश को बचाने के लिए हम अपनी जान-प्राण लगा दें…नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतंत्र हो, जय स्वराज…


 

जो लड़ा वही सिकन्दर / सभी क्रान्तिकारी नेता और कार्यकर्ताओं से अपील

 image036

१. मधेश आजादी आन्दोलन में जो लोग आगे बढ़कर मोर्चा सम्हालेगा, गिरफ्तारी देगा, डटकर संघर्ष करेगा, वही लोग न स्वतन्त्र मधेश का नेतृत्व करेगा, स्वतन्त्र मधेश की राज्य संरचना में अग्रणी भूमिका निर्वाह करेगा। अभी जो डरकर भाग जाएगा, गिरफ्तारी देने से कतराएगा, किसी बहाने बनाकर पीछे हो जाएगा, या आजादी आन्दोलन में धोखा देगा, विश्वासघात करेगा – उनके लिए तो उनके कार्य अनुसार ही न जगह रहेगा। इसलिए हम सभी वीर मधेशी नेपाली साम्राज्य का डटकर सामना करें, गिरफ्तारी से मत घबराएँ। जो लड़ा वही सिकन्दर, जो भागा वह ….

 

२. ‘स्वतन्त्र मधेश’ मेरा कोई पेटेन्ट किया हुआ विचार थोडे ही है, और न तो यह मेरी व्यक्तिगत ठेकेदारी ही। यह हर मधेशियों के दिल की चाह है, सभी मधेशियों का आन्दोलन है और कोई भी, किसी भी माध्यम से, किसी भी संगठन के जरिए ‘स्वतन्त्र मधेश’ के लिए लग सकते हैं, आन्दोलन कर सकते हैं। इसके लिए आपको मुझे ही स्वीकार करने की आवश्यक नहीं है। आप खुद भी, आप के संगठन खुद भी नेतृत्व ले सकते हैं, आजादी आन्दोलन को आगे बढा सकते हैं। पर इसका मतलब ये नहीं कि हम दूसरों को साथ लेना नहीं चाहते, बल्कि मधेश आजादी आन्दोलन के लिए हम किसी भी स्तर पर संवाद, सहकार्य और सहयोग करने के तैयार है। सभी मधेशी क्रान्तिकारी नेता और कार्यकर्ताओं से हम अपील करते हैं कि वे खुलकर आजादी आन्दोलन के लिए नि:संकोच लगें, हम उन्हें हरेक स्तर पर स्वागत करने के लिए तैयार हैं।

 


 

 

आप परिचालित है, इस पर आप क्या कहना चाहेंगे ? (इस पोस्ट को पूरा पढें)

इस सवाल का जबाव TV पर, यह आरोप लगानेवाले मधेशी पार्टी के अध्यक्षों के साथ में ही बैठकर, सीधे देने की बडी ख्वाहिश थी, बहुत दिनों से। विगत १ वर्ष से उसके लिए इंतजार करता रहा हूँ। परन्तु यह आरोप लगाकर पूरे मधेशी जनता में भ्रम फैलाने वाले मधेशी पार्टी के अध्यक्षों के साथ TV के पर्दे की निगरानी में बैठकर ‘डिबेट’ करने का वह अवसर कभी प्राप्‍त हो न सका, और अध्यक्ष महोदय और उसके चाटुकार केवल एक तरफा रुप में TV, FM और कार्यक्रमों के मार्फत् भ्रम फैलाते रहे, बंद कोठे में मधेशियों को जमा करके उनके दिमाग में भ्रम डालते रहे। आरोप लगानेवाले मधेशी पार्टियों के अध्यक्षों के साथ ‘डिबेट’ के लिए व्यवस्था मिलाने कई बार मिडिया हाउस को अपील भी हमने की, ताकि सच्चाई जो भी है, वह जनता के सामने प्रत्यक्ष रुप से आए। अगर मैं गलत हूँ, तो वह जनता के सामने आए, या वह भ्रम फैलाने वाले गलत हैं तो वह भी सामने आए। ‘डिबेट’ का वह अवसर प्राप्त न होने के कारण,आज अन्तत: फेसबुक के जरिए ही कुछ बातें कहना चाहता हूँ।

image-pari

मेरे प्यारे मधेशी स्वजनों,

१. नेपाल सरकार का पैसा और भत्ता खाते रहे हैं मधेशी पार्टियों के नेता, नेपाल सरकार के मंत्री बनते हैं मधेशी पार्टियों के नेता, और करते हैं वहीं जो-जो नेपाली शासक आदेश देता है चाहे वह काम मधेशघाती ही क्यों न हो, पर नेपाल सरकार से परिचालित हो गया सिके राउत ?

२. किस मधेशी पार्टी के अध्यक्ष ने विदेशी राजदूतावास से पैसा लिए बगैर कौन सा चुनाव लडा है ? याद रहे, यहाँ हम किसी एक देश की ओर संकेत नहीं कर रहे हैं, बल्कि अनेको देश की ओर। अनेकों देश से मधेशी पार्टियां पैसा लेती रही है, कोई किस देश से तो कोई किस देश से। तो विदेशी से पैसा लेकर चुनाव लडते हैं मधेशी पार्टियों के अध्यक्ष, और परिचालित हो गया सिके राउत ?

३. चुनाव हार जाने के बाद मधेशी पार्टी के अध्यक्ष कहते हैं कि “मधेशीको हार अमुक देशको हार हो”। क्या !? इस वक्तव्य का मतलब जानते हैं आप ? इस तरह से मधेशी जनता को लाछंना लगानेवाले मधेशी नेता क‍ा पैर आप दूध से धोते हैं, पर आप कहते हैं कि सिके राउत परिचालित है ?

४. मधेशी पार्टियों के अध्यक्ष अपने कार्यकर्ताओं को विदेशी झंडा उठवाकर जुलुस निकालने लगवाते हैं, पर ‘अपना देश स्वतन्त्र मधेश’ का झंडा उठाने वाला सिके राउत हो गया परिचालित ?

५. जो विदेशी भूमि में कभी विदेशी सरकार के मेहमान बनकर, कभी विदेशी होटलों में रहकर तो कभी विदेशी सरकार के कार्यालयों में योजना बनाकर, वहीं से आन्दोलन संचालित करता है, वह परिचालित नहीं हुए, पर मधेश की झुग्गी-झोपडी में रहकर नेपाली पुलिस का दमन झेलते हुए अपना पैर तक तुडवानेवाला और लाठी खानेवाला सिके राउत परिचालित हो गया ?

६. जो “मधेशी” नेता विदेश में ही जन्में, विदेश में ही पले और बडे हुए और कुछ वर्ष पहले आकर नेपाल की नागरिकता लेकर राजनीति कर रहा है/कर रही है, वह विदेश से आए हुए नहीं हुए/हुई, पर सिके राउत अपने काम के सिलसिले में केवल २ वर्ष अमेरिका में क्या रहे, उसका ट्याग ‘अमेरिका से आए हुए’ हो गया ?

७. मधेश आन्दोलन से पहले या मंत्री बनने से पहले टुटा हुआ चप्पल लगानेवाले मधेशी नेता नेपाल सरकार में बार-बार मंत्री बनकर आज दरवार की तरह ३-४ आलिशान महल बना चुके है, २००-३०० करोड़ का मालिक बन चुके है,मंत्री पद पर रहते हुए सरुवा-बढुवा या नियुक्ति के लिए या राजदूत बनाने के लिए ही लाखों-करोडों का भ्रष्टाचार करके अकूत सम्पति जोडे हैं, उससे आपको हिसाब नहीं मांगना है, पर अपनी करोडों की सैलरी (तलब) त्याग करके, अपनी सारी सम्पत्ति मधेश के नाम पर लूटाकर आज फकिर की हालत में पहूँच चुके, टैम्पू और बस में सफर करने वाले सिके राउत से आपको हिसाब चाहिए ? आपको लगता है कि सिके राउत के पास पैसा है ? अपनी सारी संपति मधेश के नाम पर लूटाने के बाद आज घरवारविहीन के अवस्था में पहूँच गया हुँ, पिताजी के मकान में आश्रय लेकर जैसे-तैसे जीवन निर्वाह कर रहा हूँ, पर नेताओं के द्वारा भ्रम फैलाने के बाद लोग कैसे उसे मानेंगे ? इसलिए हम तो नेपाल सरकार से और विदेशी सरकारों से भी अपील करते हैं कि वे हमारी संपति विवरण सार्वजनिक करें और सारी जनता को यह बताऐँ कि मेरे पास कितना बैंक बैलेन्स है, कितनी सम्पति कहाँ है ताकि मधेशी नेताओं द्वारा जनता में फैलाए गए वह भ्रम तो टूटे। और आप भी सरकार को वह जानकारी सार्वजनिक करने के लिए दबाब दें।

८. मधेशी नेता कहाँ से परिचालित है, चुनाव लडने से लेकर आन्दोलन करने तक कहाँ से पैसा लाते हैं, यह कोई सेक्रेट नहीं है, सभी लोग जानते हैं। अगर हम भी परिचालित है तो उस बात को प्रमाण-सहित सार्वजनिक करने के लिए किसने रोका है ? नेपाल सरकार के पास छानबीन करने के लिए सारे संयन्त्र और अथोरिटी है, हजारों मेनपावर और जासूस हैं, उससे नहीं होगा तो भारत, चीन, अमेरिका और यूरोप सभी से मदद ले सकती है कि भाई पता लगाकर बताओ कि सिके राउत कहाँ से संचालित है ! अगर नेपाल सरकार से संचालित हो तो भारत, चीन, अमेरिका, यूरोप उसे सार्वजनिक कर चुका होता ! भारत से परिचालित होने पर चीन और अमेरिका छोडता ? अपना लाखों जासूसी संयन्त्र से पता लगाकर सार्वजनिक कर चुका होता। अमेरिका या यूरोप या चीन से ही परिचालित होता, तो भारत क्या छोडता, कि पता लगाकर कबका कांड कर चुका होता ? और कहीं से प्रमाण की एक झनक क्या मिल जाता तो महिनों तक कान्तिपुर जैसे पत्रिकाओं के फ्रन्ट पेज पर वह न्यूज रहता ! पर प्रमाण कुछ देना नहीं है, पर सिर्फ अफवाह फैलाकर मधेशी नेता पिछले १-२ वर्ष से मधेशी जनता को दिग्भ्रमित करते रहे हैं ताकि उनका राजनीति का व्यापार चलता रहे !

और मधेशी जनता का क्या है ! चाहे जितना भी भ्रष्ट और धोकेबाज नेता उनके सामने आ जाए, वह दूध लेकर उनका ही पैर धोएगी, और ताली ही बजाएगी !

याद रहे, अन्तर्राष्ट्रिय समर्थन हासिल करने और परिचालित होने में आकाश-पाताल का फर्क है। हमारा स्वतन्त्र मधेश का मिशन ही ऐसा ही कि जिसमें १-२ देश का ही नहीं बल्कि बहुसंख्यक देशों का समर्थन हासिल करना आवश्यक है और वह अन्तर्राष्ट्रिय समर्थन जुटाने में हम सदैव सक्रिय रहेंगे।

जब सच्चाई ये है तो क्या आपमें हिम्मत है कि हम पर आरोप लगाने वाले मधेशी नेताओं को आप ऐना दिखा सके और उन्हें परिचालित कह सके ? हमें परिचालित कहके लिखने वाले और हमारे खिलाफ अभियान ही चलाने वाले पत्रकार, कार्यकर्ता और बुद्धिजीवियों में उतना हिम्मत है जो मधेशी नेताओं को परिचालित कहके लिख सके, उन्हें तिरस्कार कर सके ? नहीं, आपके पास वह हिम्मत नहीं है । रहने दिजिए।

 


 

मधेश र पहाड़ बीच कुन अविकसित?

 image037



यदि पहाड भन्ने वित्तिकै अविकसित र समतल भन्ने वित्तिकै विकसित हुने हो भने स्वीजरलैंड सबभन्दा अविकसित र अफ्रिकन मुलुकहरू सबभन्दा बढी विकसित हुने थिए, के यो साधारण कुरो पनि हामी हेर्न सक्दैनौं ? तैपनि जहिले पनि नेपाल सरकारले हामीलाई रटाइ दिएको कुरा दोहर्‍याइ राख्छौं, “पहाडमा यस्तो दु:ख छ, अविकास छ, मधेशमा त सबै विकास छ” ! त्यो भन्दा अगाडी गएर हामी सोच्नै सक्दैनौ!

त्यसैले भावनामा होइन, तथ्यमा आधारित सोच बनाऔं। नेपाली शासकको प्रोपागाण्डा र इमोशनल ब्लैकमेलिंगमा फस्ने होइन, आफैंले बुद्धि पुर्‍याउने हो कि वस्तुस्थिति कहाँ के छ भनेर ? ल हेर्नुस् त, मधेश (५१% जनसंख्या) र पहाड़ (४३% जनसंख्या) बीचको यो तुलनात्मक आँकडा र भन्नुस् कुन डेटाका आधारमा मधेश पहाड़ भन्दा बढी विकसित छ? समतल हुनाले मधेशमा विकास गर्न निकै सस्तो र सजिलो हुनुपर्थ्यो, तैपनि किन मधेश सबै विकासका आँकडामा पछाडी परेको छ ?

(नोट: यो तालिका डा. सी. के. राउतद्वारा लिखित “मधेश का इतिहास” किताबबाट लिइएको हो, आँकडाको स्रोत त्यहीं नै उल्लेख गरिएको छ, अधिकांश डेटा नेपाल सरकार केन्द्रीय तथ्यांक विभाग र संयुक्त राष्ट्रसंघको रिपोर्टबाट लिइएको हो।)

Table Source: C. K. Raut, A History of Madhesh, 2014, pp. 23-24.

‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ TERAI ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ HILLS
—————————————————————
Population Density ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 392 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 186
Annual Population Growth ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 1.72 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 1.06
Literacy Rate (>5 years,%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 61.2 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 72.3
Average Annual Income (NRs) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 38549 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 46224
Unemployment (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 2.7 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 2.0
Acute Food Shortage (% family) ‍‍‍‍‍‍ 18.6 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 11.8
School Attendance (%)
‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ Primary (net, 6-10 years) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 87.7 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 90.7
‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ Secondary (net, 11-15 years) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 51.8 ‍‍‍‍‍‍ 66.0
Child Mortality Rate (<5 years) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 62 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 58
Early Neonatal Death (per 1000) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 79 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍57
Anaemic Children (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 50.2 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 41.0
Low-weight Children (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 10.1 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 5.0
Wasting Status of Children (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 20.4 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 6.9
Anaemic Women (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 42.0 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 26.9
Lean Women (%, BMI<18.5) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 32.7 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 15.9
Household without toilets (%) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 51.2 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 24.8
HDI (2006) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 0.494 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 0.543
Gender Empowerment Measure ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 0.469 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 0.515
Human Poverty Index (HPI, 2006) ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍36.9 ‍‍‍‍‍‍ ‍‍‍‍‍‍ 32.7
————————————————–

image039

 

 


 

और इन्तजार बहुत महँगा पड़ेगा

image042
अधिकार पाने की आश में आज कल करते करते, नेपाली शासकों ने हमसे सभी जमीन छीन ली, हमारा जंगल कटवा डाला, हरेक मोड-मोड पर बन्दुकधारी रखवा दिए, १०-१० मिनेट की दूरी पर APF कैम्प और सेना रखवा दी, नागरिकता छीनी, वोटर लिस्ट से नाम हटा दिया, मधेश को टुकडा-टुकडा करके संविधान जारी करने निकल पडा, और उसे बन्दुक के बल पर लागू कराने, ये देखिए, नेपाल सरकार हथियार खरीद रही है।

पीछले दशकों में हमने इन्तजार किया कि चलो नेपाल में ही अधिकार मिल जाएगा, और हुआ ये कि ५० वर्ष के दौरान ही मधेश में पहाडी लोग ६% से बढकर ३३% हो गया, और मधेशी मूलबासी-आदिवासी बिस्थापित हो गए! और अब भूकम्प के नाम पर बचा-खुचा जंगल भी कटवाने जा रहा है, और पहाडीको लाकर मधेश में बसाने जा रहा है। और मधेशियों को अपनी ही भूमि से खाली करवाने के लिए नेपाल सरकार इजराइल से बन्दुक खरीदने जा रही है!

याद रहे इजराइल सरकार की मदद से ही नेपालियों को मधेश में पुनर्वास कराने की योजना लाई गई थी। सन् १९६३ में मध्य मधेश और बाँके में हजारों नेपाली (पहाडी) परिवार को तथा सन् १९६७ में झापा में ३००० एकड भूमि पर भूतपूर्व सैनिकों को बसाने का काम इजराइल सरकार की मदद से ही हुआ था।

हम अब भी चुपचाप इन्तजार करते रहे कि नेपाली राज में ही अधिकार मिल जायगा, थोडे समय और देख लेते हैं, तो मधेश से मधेशियों का सफाया सुनिश्चित है! वह भी इजराइली स्टाइल में!

इसलिए, नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतंत्र हो। अब बस यही नारा हर जगह गुंजना चाहिए।

 


 

पार्टी की लगानी बचाने

image041

जो लोग कहते हैं, मेरी फलानी पार्टी में १० वर्ष लगानी है, २० वर्ष लगानी है, मैं कैसे छोडकर चला आऊँ? उन्हें यह ज्ञात करना होगा कि अभी तो केवल २० वर्ष बरबाद हुआ है, अभी भी स्वतन्त्र मधेश के लिए नहीं लगे और वहीं पर “बालू से मख्खन” निकालने के धन्धा में लगे रहे, तो अगला २० वर्ष भी वैसे ही नष्ट होनेवाला है। इसलिए जितना जल्दी हो सके हम सभी इस सच्चाई को स्वीकार करें और सभी पार्टी, सभी संघ-संगठन के लोग मधेश आजादी आन्दोलन के लिए आगे बढ़ें।

और मधेश आजाद होने के बाद तो पार्टी चाहिए ही न ! उस समय अपनी लगानी वाली ‘बायोडाटा’ दिखाना उपयुक्त होगा। अभी सभी मधेशी जनता अपनी-अपनी पार्टी, संघ-संगठन, मोर्चा से ऊपर उठकर या कम से कम अपने भीतर ही रखकर आजादी आन्दोलन में लगें तो बेहतर हैं।


 

प्रदेश-प्रदेश करके और कुछ वर्ष झगडते रहो, बंगाल की जैसी भूखमरी दूर नहीं

image042

(भूखमरी अन्न नहीं होने के कारण से नहीं हुई थी, बल्कि अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन के चलते हुई थी। इसलिए यहाँ भी – नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतन्त्र हो। दूसरा कोई उपाय नहीं। अगर आप अपने बच्चों को,स्वजनों की इस हालात में नहीं देखना चाहते हैं, तो आजादी आन्दोलन में हिस्सा लेकर मधेश को आजाद कराएँ, मधेश को समृद्ध बनाएँ)।

जिस मधेश के कारण नेपाल कुछ दशक पहले विश्व में ही शीर्ष ५ धान निर्यातकर्त्ता देशों में आता था, वहाँ के कृषि मेरुदण्ड को नेपाल सरकार इस तरह से सुनियोजित तरीके से तोड़ दी है, कि अब धान उत्पादन में ह्रास ही ह्रास है। सिंचाई की कोई व्यवस्था न करना, खाद-बीज भारत से लाने पर रोक लगा देना (पर पहाडियों के लिए चावल लाने देना), किसानों के लिए उचित बाजार और मोल निर्धारण नहीं करके कृषि को घाटामुखी बनाके किसानों को ऋण में डुबोना, और अन्तत: खेत बेचकर मलेशिया-दुबई-कतार जाने पर मधेशियों को मजबूर करना – यही रबैया नेपाल सरकार का रहा है। परिणाम यह हुआ है कि मधेश में आज १९% परिवार अति-खाद्यान्न अभाव से गुजर रहे है, ५०.२% बच्चे और ४२ % महिलाओं में खून की कमी हो गई है, कुपोषण से २०.४% बच्चे अपक्षय की स्थिति (wasting status) में है, जबकि यही आंकडा पहाड में इससे आधे है (यानि स्थिति पहाड में बहुत ही अच्छे हैं)। यही रबैया कुछ दशक और चला, तो बंगाल की भूखमरी की हालात में भी मधेश पहुँच सकता है। इसलिए मधेश को स्वतन्त्र करके साधन-स्रोत का नियन्त्रण अपने हाथों में लेकर मधेश के कृषि-मेरुदण्ड को पुन: स्थापित करना ही होगा। मधेश की भूमि इतनी उर्बर है, मधेश की नदियों में इतना पानी है कि अगर सही मायने में अच्छी कृषि नीति लाई जाई तो मधेश देश पुन: शीघ्र ही धान निर्यातकर्ता बन सकता है।

सम्बन्धित समाचार:
* २५ अर्बको धान उत्पादन घट्ने
http://annapurnapost.com/News.aspx/story/16243

* सिरहामा ७६ प्रतिशत खेत बाँझै
http://annapurnapost.com/News.aspx/story/16324

 

image043


 

मधेश का अस्तित्व ही मिटा देगा !

image045

आप सीमांकन पर उलझकर अपने में झगडते रहें, उधर नेपाली शासक भीतरे-भीतर मधेश को खोखला कर देगा, मधेश का अस्तित्व ही मिटा देगा

सोने के टुकड़े (गोल्ड-बार) का अस्तित्व कब खत्म होता है ?
(क) सोने के टुकड़े पर पेन्सिल से दर्जनों लकीर (लाइन) बना देने से, (सीमांकन से) या
(ख) सोने के टुकड़े भीतर असली सोना निकालकर लोहा-टीन भर देने से (आप्रवासन से)

सोने के टुकड़े पर दर्जनों लकीर (लाइन) बना देने से सोना का अस्तित्व खत्म नहीं होता, क्योंकि सतही लाइन खींचने पर भी वह सोना ही रहता है, उसका मोल कम नहीं होता।

पर सोने के टुकडे (गोल्ड-बार) से अगर भीतर-ही-भीतर सोना निकालकर उस जगह लोहा-टीन भर दिया जाय तो भले ही उपर से गोल्ड-बार एक ही टुकड़ा दिखाई देगा, पर वह सोना नहीं रह जाता, सोना तो हात से कब का निकल जाता है।

उसी तरह मधेश के उपर-उपर विभिन्न विकास क्षेत्र, प्रदेश या जिला बना देने से उसका अस्तित्व तब तक खत्म नहीं होता जब तक वहां पर मूलबासी मधेशी ही रहते हैं। परन्तु नेपाल देश में रहे या नेपाल के अखंड प्रदेश में, जब मधेश में मधेशियों की जगह पहाडियों को लाकर बसाता रहा तो मधेश का अस्तित्व मिट जाएगा। वह हुआ असली सोना निकालकर लोहा-लक्कड भर देना। इसलिए सीमाकंन नहीं, नेपालियों/पहाडियों का आप्रवासन मधेश के लिए मौत की घंटी है।

और पहाडियों के आप्रवासन को मधेश प्रदेश बनाकर कदापि नहीं रोका जा सकता है, चाहे अखंड बनाओ या ६ टुकडे करो। बल्कि उस आप्रवासन को मधेश को आजाद करके ही रोका जा सकता है। मधेश के सोने जैसे मिट्टी को नेपाली उपनिवेश अंत करके ही बचाया जा सकता है, संघीयता से नहीं। इसलिए आंदोलन करें तो स्वतन्त्र मधेश के लिए, मेची से महाकाली तक पूरे मधेश की आजादी के लिए, उससे कुछ भी कम नहीं। नहीं तो आप सतही सीमाकंन पर उलझे रहेंगे, एक-आपस में ही झगडते रहेंगे, उधर भीतरे-भीतर मधेश से सोना निकालकर कब खोखला कर देगा, कब मधेश का अस्तित्व ही मिटा देगा नेपाली लोग आपको पता भी नहीं चलेगा ! पीछली जनसंख्या में ही देखा ना ४८% से ५१% हो गया, और २०-२५ वर्ष के बाद मधेश का क्या होगा? वही जो झापा, चितवन और कंचनपुर जिले का हुआ।

इसलिए, नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतंत्र हो। आजादी चाहते हैं हम, उससे कुछ भी नहीं कम। आजाद मधेश, अपना देश।


 

मधेशियों का भ्रम तो टूटे !
image047
सुगा को जिस तरह रटा दिया जाता है, वही रट रहा है!
सदियों से खाली भीख, भीख चिल्ला रहा है,
पर पिंजडा छोड उडना नहीं चाहता, आजाद होना नहीं चाहता !

और इनका अपना ही मालिक मधेशी नेता इनके चारा के नाम पर भजाकर खा रहा है, इनको दिखाकर सांसद और मंत्री बन रहा है, और सदियों से ठगता आ रहा है।

स्वायत्त मधेश का नारा ६५ वर्ष पहले से मधेशी नेता भजाते आ रहे हैं, पर क्या मिला गोली और मौत के सिवा ?

६५ वर्ष पहले मधेश में ६% पहाडी थे, आज ३३% हो गए, उसका मतलब क्या होता है टीकापुर में जाकर देखो! आदिवासी थारुओं की भूमी छीनकर वहाँ पर बैठ गए पहाडी लोग क्या कर रहे हैं, जाकर देखो !

अधिकार लेने की बात करते हो ? संविधान में लिखाने की बात करते हो ? स्वायत्त और अधिकारसम्पन्न मधेश होने की बात संविधान की धारा १३८ में ही लिखा है, फिर क्यों मर रहे हो ? फिर क्यों आन्दोलन कर रहे हो ? संविधान में लिखाने के बाद भी कितना दिन टिकता है ? नागरिकता के लिए ७० वर्ष से लड रहे हो, आज कहाँ गया वह नागरिकता का अधिकार ? कहाँ गया वाक स्वतन्त्रता, शान्तिपूर्ण विरोध करने का अधिकार ?

जब तक अपनी मधेशी सेना नहीं होगी, तब तक कोई संविधान, कोई नियम-कानून, कोई अधिकार कुछ भी मायना नहीं रखता ! नेपाली शासक के पास सेना है, आज लगा दी मधेशी जनता के उपर, वह घर-घर में आग लगा रही है,थारुओं को घर-घर में लूट रही है, महिलाओं को बलात्कार कर रही है! क्या उस फिरंगी सेना को इस आन्दोलन से मधेश से वापस कर सकते हो, उस जगह पर मधेशी सेना बना सकते हो ? नहीं तो तुम्हारी उपलब्धि किस काम की,खाली नेताओं को मंत्री और सांसद बनाने के सिवा ?

करते हो तो आजादी आन्दोलन करो ! वरना इस तरह से मधेश के अस्तित्व मिटा डालोगे । क्योंकि आन्दोलन असफल होता है, तो उसका धक्का मधेश को लगता है। माओवादी आन्दोलन और ६३-६४ साल के मधेश आन्दोलन के चलते मधेश में APF का जाल बिछा दिया गया, अब इस आन्दोलन के चलते ऐसा न हो कि अगले १० वर्ष मधेश में सेना लगी रहे ! नेपाल सरकार का क्या जाता है ? १ लाख सेना से नहीं होगा, तो और १ लाख बना डालेगी ! और १ लाख पहाडियों को रोजगार मिल जाएगा ! उसे पालना तो हमें ही पडेगा, वो हमारी ही खा-पीकर हम पर गोली चलायगी। उसका क्या जाता है ?

इसलिए आन्दोलन करना है तो आर-पार कर देने वाला **सफल** आजादी आन्दोलन करो ! वरना मुहँ के बल गिरने से मधेशियों को कोई रोक नहीं सकता।

यह ऐतिहासिक घटनाक्रम देखें और सोचें कि और कब तक पिँजडे में बन्द रहना चाहेंगे ?

“The demand today is the same as it was in 1953: a separate province for Madhesis.”
http://www.recordnepal.com/wire/fertile-land-victim-neglect

image048

 


 

पूरै नेपालमाथि मधेशीले कब्जा गर्नुपर्छ भन्नेहरूका लागि:

image049

अबे सुनती हो, इन्हीं के पास सो जाना, हमें काठमांडू में राष्ट्रपति/प्रधानमंत्री बनना है (नीचे ‘बंता’ की कहानी जरूर पढ़े)

प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बनने की महात्वाकांक्षा पूरा करने के लिए पूर ५४ मधेशी शहीदों के खून से बनी पार्टी को पहाडियों को बेचने वाले, नेपाल के संविधान में मधेशी शब्द पहचान को रुप मे खोजनेवाले खुद अपनी पार्टी से ही “मधेशी” शब्द को विलिन करने वाले, बडे नेपाली राष्ट्रवादी बननेवाले, ‘प्रदेश नहीं, देश ठूलो’ रटान लगानेवाले आजकल मधेशियों को ये कहके सिखा रहे हैं कि ‘हम तो राष्ट्रिय पार्टी हो गए, राष्ट्रिय नेता। नेपाल देश में राष्ट्रपति मधेशी बना,अब प्रधानमंत्री भी बनेगा, उसके लिए हमें समर्थन दिजिए। काठमांडू तो हमारा है, वहाँ पर मधेशियों ने शासन किया है, हम काठमांडू को कैसे छोड दें ?’

– मधेशियों ने काठमांडू पर ही नहीं पूरे भारत पर भी शासन किया था – अफगानिस्तान से लेकर वर्मा तक। मगध पर विजय पाकर विशाल साम्राज्य स्थापना करनेवाले सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य मधेशी ही थे, मधेश के ही पिप्पलिवन गणतन्त्र से आए थे। तो काठमांडू ही क्यों, अफगानिस्तान से लेकर वर्मा तक, कन्याकुमारी से लेकर हिमालय तक कब्जा करने के लिए आप पार्टी बनाइए न !

– काठमांडू ही क्यों, चन्द्रवंशियों का राज्य मथुरा से द्वारका तक, और सूर्यवंशियों का राज्य अयोध्या (अवध) से श्रीलंका तक था, तो वह भी दावा किजिए न !

– इन मधेशी नेताओं की सोच देखकर बंता की यह कहानी बहुत ही याद आती है।

***
बंता के घर एक मेहमान आया। बंता की पत्नी ने खाना बनाकर खिलाया, पिलाया। गर्मी की मौसम थी। बंता मेहमान के साथ बाहर दरबाजे पर लगाए अपने मचान पर बैठकर हावा में बातचीत किया। जब मेहमान को नींद आने लगी,तो मेहमान ने बंता को सोने के लिए जाने को कहा।

मेहमान: चलो भाई बंता, तुम भावी के पास घर में जाकर सो जाओ। हम यहीं हावा में विश्राम करते हैं।

बंता: क्या ? पर यह मचान तो मेरा है ! हावा में मैं यहाँ सोऊँगा। तुम ही भावी के पास जाकर सो जाओ ।

***

वही हाल है इन मधेशी नेताओं का। अपने घर में, अपने मां-बहन के पास, नेपाली सैनिक और शासक को सोने के लिए भेज दिए हैं और खुद कहते हैं हम तो काठमांडू में सोएँगे, काठमांडू कब्जा करेंगे, काठमांडू हमारे वंश का है। पहले अपने घर तो बचा लो, अपनी मां-बहन-बिबी को तो फिरंगियों से आजाद कर लो, जो घर में घूसकर बलात्कार किए जा रहे हैं!

मैं उन महात्वाकांक्षी नेताओं से कहना चाहता हूँ, जो नेपाल के राष्ट्रिय नेता बनकर, बहुत बडा नेपाली राष्ट्रवादी बनकर प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति पडकाने के दांव में हैं : क्या मधेश देश बनने के बाद उसमें प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति नहीं चाहिए ? आप मधेश देश के प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति बनिए न ! नेपाल में मधेशी लोग राष्ट्रपति बनकर ही क्या हुआ यह तो महामहिम की हालत देखकर ही पता चलता है न ! सडकर पर ट्राफिक जाम होते ही महामहिम को मर्सिया, धोती, भेले कहके किस तरह गाली दी जाती है, नेता से लेकर प्यून तक महामहिम को किस तरह अपमानित करते हैं, सर्वोच्च पद पर होते हुए भी कौन सा अधिकार आज अपने मन से प्रयोग कर पाए हैं ?! आज प्रथम राष्ट्रपति अगर पहाडी होता तो हरेक अफिस में, नेपाल के अधिकांश घरों में राष्ट्रपति की तस्वीर लटकी होती ! पर मधेशी होने की बजह से कहीं नहीं है। क्या उसी तरह अपमानित होने के लिए आप नेपाल के प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति बनने का ख्वाव रखते हैं ? हमारा अनुरोध है, अब मधेशी जनता को दिग्भ्रमित मत किजिए, अब मधेशी शहिदों को मत बेचिए, प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति बनना ही है तो मधेश देश का बनिए।


 

जूकालाई टाँसि राख्ने ?

जूका र उपियामा आफ्नो रगत लगानी भएको छ भन्दैमा जीऊमा टाँसेर संधै राखिन्न, फाल्ने नै हो। काठमाडौंमा हाम्रो पूर्खाको रगत र पसिना खर्चिएको छ भन्दैमा नेपाली जूका र उपियाँलाई मधेशीले सँधैका लागि अब पाल्ने हैन, थुतेर फाल्ने नै हो।

image050

एउटै उदरबाट जन्मेका भाईहरू त समय आएपछि अंशबंडा गरेर अलग हुन्छन्, यहाँ त मानव र परजीवि नेपाली उडूस र जूकाको कुरा छ। युद्धमा जित्ने र हार्ने, शासक र शासित, मालिक र दास को कुरो छ। मधेशीहरू यी परजीवि नेपाली साम्राज्यबाट स्वतन्त्र हुनै पर्छ।

सन्दर्भ: संविधान सभामा प्रचण्डको ‘मधेसले काठमाडौंबाट अंश खोज्ने हो’ बयान


 

सिके राउत कहाँ है ? सडक पर क्यों नहीं आते ?’ पूछने वालों को चुनौती
पहले १ लाख जनता ‘स्वतन्त्र मधेश’ का झंडा लेकर निकलें
**************************************************************************
अगर आप में इतना हिम्मत है तो १ लाख की संख्या में जनता ‘स्वतन्त्र मधेश’ का झंडा लेकर और ‘स्वतन्त्र मधेश’ की नारा गुंजाते हुए शांतिपूर्ण मार्ग पर आस्था रखकर सडक पर उतर कर दिखाइए, तब अगर सिके राउत आपको सडक पर छाती खोलकर नेतृत्व करते हुए दिखाई नहीं देता है, तब बताइगा।

अभी सिके राउत क्या करने उतरेंगे सडक पर ? भ्रष्ट मधेशी नेताओं के द्वारा प्रयोग होने के लिए? जनता को मरवाकर भ्रष्ट मधेशी नेताओं को फिर से सांसद और मंत्री बनवाने के लिए और जनता को भ्रम में रखने के लिए ? उसी सड़ी-गली पुरानी मांग के लिए, जो हम जानते हैं कि मधेशियों को कोई अधिकार दिला नहीं सकता ?

जब सिके राउत पिछले ४ महिनों से नजरबंद में है तो कितने जनता गए उन्हें छूडाने के लिए ? जब सिके राउत के कार्यक्रमों को विथोला गया, उसे बोलने और टिवी में अन्तर्वार्ता देने तक नहीं दिया गया तब मधेशी नेता और सांसद कहाँ थे और क्या किए ? क्या एक आम मधेशी की तरह उन्हें बोलने देने के लिए भी मधेशी नेताओं को आवाज उठानी नहीं चाहिए थी ? जब नेपाली पुलिस ने सिके राउत के पैर तोड दिया, जब झापा में उग्र दमन करके सर फोड दिया, जब दर्जनों स्वराजियों को पकड़कर मुद्दा लगाया गया, हिरासत में रखा गया, तब ये आज चुनौती देनेवाले महानुभाव सब कहाँ थे? तब कितनी जगहों पर उन्होंने विरोध जुलुस निकाला ? तब वे सब चुस्की ले रहे थे। स्वतंत्र मधेश का नारा लगाने के लिए खुद डरते हैं, स्वतन्त्र मधेश का झंडा पकडने की हिम्मत नहीं, तब अनेकों बहाना निकालते है, और अभी पूछते हैं स्वराजी कहाँ है ?

सवाल उठाने वाले महानुभावों, स्वतन्त्र मधेश के झंडा का सैम्पल यहीं है, पहले १ लाख बनाकर फहराएँ, १ लाख की संख्या में जमा होकर ‘स्वतन्त्र मधेश’ का नारा दें, पुराने भ्रष्ट नेतृत्व और गद्दारों को तिरस्कार करें, और तब पूछे कि ‘सिके राउत कहाँ है ‘!

madhesh-flag drckraut1 drckraut2 drckraut3


 

स्वराजियों ने क्या किया ?

स्वराजियों का अन्दाज ही अलग है…’मधेश स्वराज’ किताब पाठ-२४ से

जिज्ञासु: अच्छा। परन्तु समाज के उत्थान या राजनीति में लगे रहने पर भी, कई बार लोग चिढ़ाते रहते हैं कि क्या किया, कुछ उपलब्धि तो नहीं, तो मन करता है अभी जाकर कुछ कर दूँ!

डॉ: देखिए, आजादी आन्दोलन कोई फैशन शो नहीं होता कि आप स्पोट-लाईट में रहकर रैम्प-वाक दिखाते रहें। यह लोगों को भी समझना चाहिए और आप को भी। आप अपना काम करते रहिए, बाहर में जानकारी देना या न देना, यह आपकी रणनीति और योजना पर निर्भर करता है। तो जरूरी नहीं है कि हर दिन आप फेशबुक पर पोस्ट करते रहे कि आपने ये किया या वो किया, या मीडिया में छाए रहे कि आप बहुत कुछ कर रहे हैं।

दूसरी बात, अगर कोई आपको उकसाता या चिढ़ाता है, तो उनके प्रयोजन को पहले पहचानिए। उकसाने या चिढ़ाने या चुनौती देने का काम लोग अनेकों प्रयोजन के खातिर करते हैं। उन्हें पहचानकर उसी अनुरूप सावधानी अपनाएँ। क्योंकि उकसाने के पिछे खतरनाक मकसद भी हो सकता है। आपकी योजनाओं का भंडाफोर करके उसके विषय में आपसे जानकारी ले लेना, आपको दूसरी ओर व्यस्त रखकर या झुकाकर आपके समय और योजना को नष्ट करना, आपको उकसाकर आपसे विवादास्पद अभिव्यक्ति लेना या *******आपकी योजना से बाहर कोई काम करने पर मजबूर करना,******** आपको बदनाम करना,******** आपकी चरित्र-हत्या करना—ऐसे कई प्रयोजन हो सकते हैं। इसलिए किसी के द्वारा उकसाने या चुनौती देने पर, सावधानी से सोचें, उनके वश में न आएँ।

और, कुछ लोग होते हैं जो दूसरों को आग में कुदने के लिए उकसाते रहते हैं पर खुद दूर रहते हैं। ऐसे लोग खुद तो कुछ जिम्मेवारी लेते नहीं पर दूसरों को गाली देते रहते हैं कि क्या किया। अपना कुछ समय देना नहीं चाहते पर पुछते हैं कि कब होगा। अपने साधन-स्रोत नहीं लगाते और हिसाब माँगते रहते हैं। अपनी प्रतिबद्धता नहीं दिखाते और खाली कहते है ये होना चाहिए, वो होना चाहिए। इन लोगों की बातों में पड़ने की जरूरत नहीं है, बल्कि आप अपनी योजना के मुताबिक काम करें। प्रोएक्टीव होकर चलें, रिएक्टिव होकर नहीं।

जि: मतलब, ऐसे लोग मिलने पर बस इग्‍नोर कर दें?

डॉ: पूरे इग्‍नोर तो नहीं, ऐसे लोग मिलने पर उन्हें भी आगे आने के लिए बोलें, उन्हें भी जिम्मेवारी वहन करने के लिए बोलें, और कोई कार्यभार सौंपें। अगर वे केवल बात बनाने वाले और खींचतान करने वाले लोगों में से हैं, तो वे दोबारा शायद दिखाई नहीं देंगे। अगर उनमें कुछ लगन है तो वे भी आन्दोलन का हिस्सा बन जाएँगे और सवाल करने वाले पक्ष में नहीं रह जाएँगे।


 

सिके राउत सडक पर क्यों नहीं है ?

फोन और फेसबुक पर गालीगलौंच करनेवाले और धमकी देनेवाले प्यारे मित्रों–
♟मधेशियों की लाश पर गिद्ध की तरह टूट पडते हो कि कहीं दूसरा न आ जाए,
और भव्य स्टेज लगाकर बुलाते हो वही लाश को बेचकर खानेवाले मधेशी नेताओं को,
❀ दूसरों को श्रद्धाञ्जलि अर्पण करने तक नहीं देते इस डर से कि कहीं ‘मास’ (आपके लिए ‘वोटबैंक’) ‘हाइज्याक’ न हो जाय, ☞ और अभी कहते हो सिके राउत सडक पर क्यों नहीं है ?

आप निकलते हैं अपनी पार्टी का झंडा लेकर, नारा कभी देते हो १ मदेश १ प्रदेश, कभी २ प्रदेश, कभी ३ प्रदेश, कभी कहते हो मधेश प्रदेश में हिमाल और पहाड भी चाहिए, और अपेक्षा करते हो कि सिके राउत आपके साथ सडक पर आए? सड़क पर आकर हम क्या करेंगे ? हम भी ईंट-पत्थर फेंके ? या मधेशी मोर्चा के आह्वान के तहत हम भी भाला-बरछी लेकर निकले ? या पेट्रोल बम लेकर फेंके ?

पिछले लगभग ४ वर्षों से मधेश के गाँवगाँव जाकर सिखा रहा हूँ कि बिना तैयारी के आन्दोलन में नहीं जाना है, पहले तैयारी और प्रशिक्षण बहुत महत्त्वपूर्ण है, शान्तिपूर्ण मार्ग से ही जाना है, तो बहुत लोगों ने उपहास किया, मजाक बनाया, खास करके पार्टी के कार्यकर्ताओं ने। यहीं फेसबुक पर भी देखिए: अभी भी जब कहता हूँ शांतिपूर्ण मार्गपर अडिग रहने के लिए तो कई लोग कैसे मजाक बनाते हैं।

और आज युद्ध छेड दिए, नेपाली सेना को दाबत देकर अपने घर में बुला लिया, और जब सारी परिस्थिति नियन्त्रण से बाहर हो रही है, तो कह रहे हैं सिके राउत कहाँ खो गया ? और सिके राउत निकल भी गया, तो मधेशी पार्टिया नेपाल सरकार से समझौता करने के बाद सभी स्वराजियों को साफ करने में लग जाएगी, नेपाल सरकार से ही मिलकर स्वराजियों को फंसाकर खत्म करने में लग जाएगी, जैसा कि पिछले दिनों में कई दिग्गज मधेशी नेता लोग सिके को बदनाम करने अनेकों प्रोपागान्डा फैलाते रहे, और उधर नेपाल सरकार से भी कहते रहे कि ‘ हामी बाहिर यस्तै भन्दै गर्छौ, सिकेलाई जेल भित्रै राख्‍नुस्’।

फिर भी आप सबकी इस अपेक्षा के लिए हम हार्दिक आभार हैं, और अपनी ओर से, अपने मुद्दा और सिद्धान्त के दायरे में रहते हुए, जो हो सकता है हम कर रहे हैं। खास करके घायलों की उपचार और सहयोग में तथा अन्तर्राष्ट्रिय स्तर पर लबिंग करने में हम सब आन्तरिक रुप से काम करते आए हैं।

हम स्वराजी कहीं गए नहीं है, हम जहाँ थे वहीं है, अपने मुद्दा पर अटल है। स्वराजी लोग भीड को देखकर अवसरवादी नहीं बनना चाहते। हमारा ‘स्वतन्त्र मधेश’ का अभियान अपनी योजना के तहत, इस आन्दोलन के दौरान, विषम परिस्थिति में भी जारी है। आप जुडना चाहते हैं तो जिल्ला संयोजकों से सम्पर्क करें, स्थानीय कार्यक्रमों में सहभागी हों। अनलाइन रजिस्टर करने के लिए madhesh.com/join (केवल नए लोग जो पहले से नहीं जुडे हैं वही यहाँ रजिस्टर करें) ।


 

प्रश्न: आप इन नेताओं से मिलकर क्यों नहीं आते ? आप आन्दोलन में क्यों नहीं आते ?

image052

क्या दाल-भात, गौ-सुअर का मांस, और गोबर को एक ही जगह मिलाना चाहिए ? सभी का अपना अस्तित्व है और अपना प्रयोग, पर आम जनता इन तीनों चीजों को मिलाकर खा तो नहीं सकता

 

वहीं बात है। स्वराज आन्दोलन सात्विक है, दाल-भात की तरह सबके द्वारा ग्राह्ययोग्य है। सशस्त्र आन्दोलन मांस है, सभी के लिए खानेयोग्य नहीं, ‘अफोर्ड’ भी नहीं कर सकते। और सत्तामुखी मधेशी नेता और पार्टियां सिस्टम से सडपच कर निकल चुके दुर्गन्धित गोबर की तरह है जो पूरे मधेशियों को शरीर और दिमाग से बिमार करके रख दिया है ! तो क्या तीनों को मिलाकर आप खा सकते हैं ?

 

हम तो सचेत ही न करेंगे कि ये सत्तामुखी मधेशी नेता और पार्टियां गोबर है, और वह भी दुर्गन्धित और भाइरस युक्त जो पूरे मधेशी जनता और समाज को बिमार कर दिया है। सचेत करने के बाबजूद फिर भी मधेशी जनता अगर गोबर ही खाना चाहेगी, तो जनता की मर्जी सरआंखो पर !
दूसरी बात, जब दो आदमी कुश्ती लड रहे हो तो क्या उसके बीच में ही तीसरे खिलाडी को घूसाना उचित रहेगा ? उसके लिए ‘गेम फाइनल’ होने देना उचित होगा। और मधेशी पार्टी तो कब के चित्त हो गई है, हार गई है, बस वह जनता के आंखो में धूल झोंककर अब भी मैदान में पडी है, धूल चाट रही है, अगले चुनाव के लिए फिल्ड पकड कर बैठी है। इधर मधेशी जनता मर रही है, मातम मना रही है और मधेशी पार्टी सदस्यता टिकट काट रही है तो कभी सत्ता में जाने के लिए वोट कर रही है। अब जनता ही अम्पायर है, जनता को कहना पडेगा इन मधेशी नेता और पार्टियों को कि भाई तुम्हारा गेम बहुत देख लिया, बहुत धोखाधडी हो गई, कई बार चित्त पड गए हो, अब रास्ता साफ करो। जनता को वार्ता और संविधान संशोधन का नाटक छोडकर, नेपाल सरकार से भीख मांगना छोडकर, स्वतन्त्र मधेश का झंडा उठाना पडेगा। उसके बाद ही आजादी का अंतिम युद्ध शुरु होगा।

 

आप उठाते रहेंगे विभिन्न पार्टियों का झंडा, नारा लगाते रहेंगे कभी १, कभी २, कभी ३ प्रदेश का, कभी संविधान संशोधन का, नेपालियों से भीख मांगने का – और वहाँ कहेंगे कि सिके राउत क्यों नहीं आ रहा है, यह उचित नहीं है।

 

स्वतन्त्र मधेश का झंडा दसों हजार, लाखों की संख्या में जनता उठाकर तो देखे, भीख मांगना छोडकर ‘स्वतन्त्र मधेश’ के नारे लगाकर तो देखे, हम वही उपस्थित होंगे।


 

अहिंसात्मक मार्ग

विश्व अहिंसा दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

अक्टोबर २, आज विश्व अहिंसा दिवस। संयुक्त राष्ट्र संघ ने सन् २००७ से महात्मा गांधी के जन्मदिन (२ अक्टूबर) को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव पारित किया था।

 

इस दिवस में हम अहिंसा की ताकत को पहचान करें, जो कि पूरे विश्व को बदलने की क्षमता रखती है। इसिलिए तो गांधीजी ने कहा था: अहिंसा मानवता का सबसे शक्तिशाली पहलू है। यह मनुष्यों द्वारा बनाए गए विनाशकारी हथियारों से भी ज्यादा ताकतवर है।

बहुत ही खुशी की बात है मधेश इस अहिंसा के मार्ग पर चल पडा है, जिसका सशक्त और ऐतिहासिक प्रयोग मधेशियों ने ११५५ किलोमीटर लम्बा मानव-जंजीर बनाकर किया और पूरे विश्व को अपना संदेश दिया। इसके लिए सम्पूर्ण मधेशी जनता लगायत आयोजक उतने ही धन्यवाद के पात्र है। मधेशियों की धूमिल छवि जो नेपाली शासकों ने पिछले दिनों में निर्माण करना चाहा था, उसका करारा जवाब था यह मानव-जंजीर। यह पूरे विश्व को संदेश देने में सफल रहा कि झापा से लेकर कंचनपुर तक के सारे मधेशी गुलामी की जंजीर से मुक्त होना चाहता है। जो अभूतपूर्व उत्साह उसमे दिखाई दिया, जिस तरह से बच्चे से लेकर वृद्ध और अशक्त तक, घुंघट में चेहरा छुपाई हुई नई-नवेली दुल्हन से लेकर लाठी लेकर दांदी मांएँ तक सहभागी हुईं, जिस तरह से चाहे रेत हो या नदी कुछ भी उसे रोकने में नाकाम रही, वह अपने-आप में एक अविस्मरणीय और स्वर्णिम इतिहास बन चुका है।

बहुत सारे लोग अहिंसात्मक आन्दोलन पर शक करते हैं, उन्हें विश्वास नहीं हो पाता कि अहिंसा में इतनी ताकत हो सकती है – बन्दुक, तोप और मिशायल से ज्यादा। इसके लिए हम कुछ डेटा देखें:

image054

सन् १९०० के बाद हुए ३२३ महत्वपूर्ण राजनैतिक आन्दोलन पर समीक्षा करते हुए एक शोधपत्र में निष्कर्ष निकाला गया था कि अहिंसात्मक आन्दोलन का सफलता दर ५३% रहा, और पूर्ण असफलता केवल २०% जबकि हिंसात्मक आन्दोलन की सफलता २३% और पूर्ण असफलता दर ६०% रहा।

 

सत्य यह होते हुए भी जब लोग आक्रोश में आते हैं तो कहने लगते हैं ऐसे शांतिपूर्ण तरीके से थोडे ही होगा, लात के भूत बातों से थोडे ही मानेगा, अब बन्दुक ही उठाना पडेगा। इस बार भी मधेश आन्दोलन को नेपाली शासक जब बहुत दिनों तक नजरअन्दाज किया, तो बहुत सारे मधेशियों के मुँह से यही सुनने को मिलता था। वे अक्सर तर्क करते थे कि भारत को आजाद करने में गरम दल भी तो थे, सुभाष चंद्र बोस भी थे, उनकी आजाद हिंद फौज भी तो थी,तो हम भी चलो बन्दुक उठाते हैं। पर याद रहें हम उस समय की घटना को आज के विश्व-स्थिति से बिल्कुल तुलना नहीं कर सकते और हुबहु लागू नहीं कर सकते। सुवास चन्द्र बोस के समय में United Nations था ? NATO था ?उस समय में विश्व आज की तरह आतंकवाद के खिलाफ एकत्रित था ? इसलिए उस समय अगर आजादी के लिए बन्दुक उठाई गई, तो आज भी हम नहीं उठा सकते। सिकन्दर या सम्राट अशोक घोडे पर चढकर ही विश्व-विजय के लिए निकले तो उसका मतलब यह नहीं है कि आज भी हम घोडा पर सबार होकर ही युद्ध करने निकल जाएँ।

 

आज पूरे विश्व हिंसा के खिलाफ में, आतंकबाद के खिलाफ में एक हैं। चाहे किसी भी कारण से आप बन्दुक उठाएँ, विश्व कारण नहीं देखने लगता हैं, सिर्फ आपको आतंकवादी मानता है, और परस्पर विरोधी देश भी मिलकर आपको परास्त करने में लग जाते हैं। इसलिए पहले के दिनों में हिंसा के मार्ग से थोडा-बहुत कुछ सफलता मिलती भी हो, पर आज के समय में वह नामुमकिन सा हो गया है।

 

और शोध से भी यही देखने को मिलता है। ग्राफ में देखें कि जब सन् १९४० के दशक में हिंसात्मक मार्ग से ज्यादा सफलता मिलने की सम्भावना रहती थी, पर पिछले दशकों में हिंसात्मक मार्ग से सफलता दर केवल १०% के करीब है,जबकि अहिंसात्मक मार्ग द्वारा सफलता दर ७०% के करीब !

 

तो हम केवल भावना में न बहें,आक्रोश में निर्णय न लें। तथ्य पर विचार करें, संयमता से काम करें। अहिंसात्मक मार्ग से मधेश की आजादी सुनिश्चित है।

 

***

Reference:
Chenoweth, E., & Stephan, M. J. (2011). Why civil resistance works: The strategic logic of nonviolent conflict. Columbia University Press.

Summary:
1. https://www.psychologytoday.com/…/violent-versus-nonviolent…

  1. http://righttoprotestt.weebly.com/charts-and-video-on-peace…

 

 

मधेश स्वराज किताब से
*************

भाग ३: मार्ग

१५. शान्तिपूर्ण मार्ग क्यों?

जि:
हमने ये तो समझ लिया कि हमें आजादी ही चाहिए, स्वतन्त्र मधेश ही चाहिए। पर उसे हासिल करने शान्तिपूर्ण मार्ग क्यों?

डॉ:
शान्तिपूर्ण और अहिंसात्मक मार्ग द्वारा बहुत सारे देशों को स्वतन्त्रता मिली है, भारत और दक्षिण अफ्रिका जैसे उदाहरण हमारे सामने है। आधुनिक समय में जहाँ पर आजादी के लिए सशस्त्र युद्ध भी हुआ, वहाँ भी शायद ही कभी विद्रोहियों को पूर्ण विजय मिली, और वहाँ पर भी अन्तत: शान्तिपूर्ण मार्ग द्वारा ही समस्या का समाधान किया गया, अन्त में टेबल पर से या जनमत संग्रह से ही बात को सुलझाया गया। और सन् २००१ के ९/११ की घटना के बाद तो विश्व का रूख ही पलट गया है, और आज के विश्व में सशस्त्र मार्ग द्वारा ज्यादा देर तक टिका ही नहीं जा सकता, विजय पाना तो दूर की बात है। इसके लिए आप श्रीलंका के तमिल टाइगर्स जैसे पहुँची हुई बहुत ही शक्तिशाली विद्रोही शक्तियों का उदाहरण ले सकते हैं। और आज सशस्त्र युद्ध द्वारा विजय पा भी लें तो विश्व की शक्तियाँ मिलकर उसे परास्त करने मे लग जाएँगी। इसलिए आज के दिन में शान्तिपूर्ण और अहिंसात्मक मार्ग ही सब से उत्तम और सफलता देने वाला मार्ग है। इस राह पर अन्तरराष्ट्रीय समर्थन भी आसानी से प्राप्त किया जा सकता है और इसके द्वारा विजय निश्चित है।

दूसरी बात, सशस्त्र आन्दोलन से मधेश का भला नहीं हो सकता, थोड़ी सी हुई सशस्त्र गतिविधियों का नतीजा आप देख सकते हैं। सरकार को बहाना मिल जाता है, मधेशियों पर ज़ुल्म करने के लिए, ‘सुरक्षा’ के नाम पर एक पर एक विधेयक और ‘सुरक्षा योजना’ लाने के लिए, मधेश में हजारों सशस्त्र प्रहरी तैनात करने के लिए, दर्जनों सशस्त्र प्रहरी और सैनिक कैम्प खोलने के लिए, मधेशियों पर अत्याचार करने के लिए। सशस्त्र संघर्ष की राह अफ्रिका में हुए हिंसात्मक संघर्ष, और गरीबी तथा हिंसा से भरे समाज, की ओर ले जाती है, जो मधेश के हित में कदापि नहीं है।

उसके अलावा, सशस्त्र आन्दोलन के लिए भले ही कुछ जुनून भरे लोग आ जाएँ, पर बहुसंख्यक मधेशी जनता इसके लिए आगे आना नहीं चाहेगी। इसलिए अधिक से अधिक समर्थन पाने के लिए भी हमें सशस्त्र आन्दोलन से दूर रहना होगा।

जि:
क्या अहिंसात्मक आन्दोलन में दम है?

डॉ:
आप जोश में आकर कह सकते हैं कि अहिंसात्मक आन्दोलन में कोई दम नहीं है। पर मैं इस पर जोड़ देना चाहता हूँ कि पहले के दिनों से आज अहिंसात्मक मार्ग कहीं ज्यादा सान्दर्भिक और ताकतवर है। इसके दो पहलू हैं।

पहला कि आज एक-एक आदमी इतना ताकतवर हो गया है, उनके हाथों में इतनी विध्वंसात्मक शक्ति आ गई है कि एक आदमी भी सुपरपावर को बिना हथियार के ही मात दे सकता है और बहुत ही बड़ी क्षति पहुँचा सकता है। इसलिए आज सरकार किसी एक समुदाय को अनदेखा करके, किसी समुदाय को दबाके, किसी समुदाय पर अन्याय करके नहीं चल सकती। उसे हरेक की न्यायोचित्त माँगों को सुनना ही पड़ता है। उसके लिए बम और बारूद की ही जरूरत नहीं होती। सरकार हिंसा का इन्तजार नहीं कर सकती, क्योंकि अगर करती है तो भारी क्षति का सामना करना पड़ता है।

दूसरी ओर खास करके सन् २००१ के बाद आज विश्व की सरकारें इस तरह से हिंसात्मक गतिविधियों पर आक्रामक तरीकों से पेश आ रही हैं कि वे कारण नहीं देखतीं। और सारी सरकारें इस मामले में एकजुट हो गई हैं। कहीं कहीं इसमें अगर कोई असहमति दिखती है, तो वह केवल किसी एक खास देश से जुड़े स्वार्थ के कारण। इस कारण से आज के दिनों में हिंसा द्वारा प्राप्त कोई विजय तनिक भी टिक नहीं सकती।

जि:
आप एक तरफ कह रहे हैं कि आदमी बहुत ताकतवर हो गया है, तो फिर वह विजय क्यों हासिल नहीं कर सकता? आपका विचार विरोधपूर्ण नहीं है?

डॉ:
कहने का मतलब, आदमी ताकतवर तो हो गया है कि वह सुपरपावर को भी व्यापक क्षति पहुँचा सकता है और सम्भवत: क्षणिक विजय भी हासिल कर सकता है, पर इतना ताकतवर नहीं कि हिंसा द्वारा प्राप्त विजय को वह ज्यादा दिन रख सके, क्योंकि आज विश्व हिंसा और आतंकवाद के खिलाफ एकजुट और आक्रामक है, सारी सरकारें मिलकर हिंसा द्वारा प्राप्त विजय को निष्फल कर ही देंगी। इसलिए शान्तिपूर्ण मार्ग ही आज सफलता तक पहुँचा सकता है, उसी के द्वारा विश्व का समर्थन और सम्मान भी पाया जा सकता है।

जि:
कहाँ पर अहिंसात्मक आन्दोलन ने अपनी भूमिका निभाई है?

डॉ:
आपको दूर जाने की जरूरत नहीं है, भारत हमारे लिए सबसे बड़ा उदाहरण है। उसी तरह, मंडेला का उदाहरण भी हमारे सामने है। कहें तो सन् १९६६ से १९९९ तक में अहिंसात्मक नागरिक आन्दोलनों ने निरंकुश शासन को हटाने की ६७ घटनाओं में से ५० में मुख्य भूमिका निभाई है।

जि:
पर दलाई लामा तो कामयाब नहीं हो पाए?

डॉ:
आप यह सोचिए कि अगर दलाई लामा ने हथियार उठाया होता तो आज विश्व रंगमंच पर जिस तरह से वे और उनके आन्दोलन स्थापित हैं, वह होता? जिस तरह से उन्हें अनेकों देश जाने को मिलता है, वहाँ पर उनको जो सम्मान और समर्थन मिलता है, वह होता? कि उन पर कब का दमन होकर उनका आन्दोलन ही खत्म हो चुका होता? और शायद, हम और आप तिब्बत और दलाई लामा के नाम भी नहीं जानते।

और जहाँ पर हिंसा द्वारा जीत हासिल भी हुई, वहाँ थोड़ी देर बाद ही सही, अन्तत: सरकार एक या दूसरे तरीकों से परिस्थिति को काबू कर ही लेती है। तमिलों ने श्रीलंका के एक भू-खण्ड पर कब्ज़ा कर ही लिया था, नेपाल में माओवादियों ने भी एक तरह से जीत ही हासिल कर ली थी, पर अन्तत: क्या हुआ? तो आज जहाँ आतंकवाद के नाम पर पूरे विश्व की शक्तियाँ एक होकर दम लगाती हैं, तो उसमें भले ही नेक उद्देश्य के लिए कोई हिंसा का इस्तेमाल करता हो, पर उसे भी सरकारें नहीं छोड़तीं। ऐसे में अहिंसात्मक मार्ग विकल्पहीन सा हो गया है।


image055

 

 

पत्थर फेंककर भागना समाधान नहीं, संयमता और बुद्धि लगाने से ही सफलता मिलेगी
इंसान की संयमतापूर्ण बुद्धि के आगे लाखों ततैया (बिरहनी/बारुला) कुछ भी नहीं है, पर उसके छत्ते पर पत्थर फेंककर खुद भागना समाधान नहीं हैं। उससे आसपास रहे बच्चा, वृद्ध, महिलाओं को ततैया डंक मारता है, जिससे वे मर भी जाते हैं। परन्तु संयमता और बुद्धिमता पूर्ण युक्ति से सारे बिरहनी को खत्म किया जा सकता है।

उसी तरह जनता के आगे हथियारयुक्त लाखों फिरंगी सेना भी कुछ नहीं है, पर आवेश में ईंट और पत्थर फेंकना, प्रहरी चौकी जलाना, हिंसा भडकाना मधेश के हित में कतई नहीं हैं। उनसे निपटने के लिए मधेशी जनता को संयमता और बुद्धि का उपयोग करना होगा। शांतिपूर्ण और विवेकपूर्ण तरीके से ही उनसे निपटकर मधेश को आजाद किया जा सकता हैं।

हिंसा से बचें, संयमता रखें। मधेश आन्दोलन ऐसे मोड पर हैं जहाँ इसे नेपाल के बडे-बडे शक्ति केन्द्र पैसा लगानी करके, हत्या-हिंसा भडकाकर अपना स्वार्थ पूरा करना चाहता है। उनके स्वार्थ पूरा होते ही मधेश को घायल, लहूलहुवान, पूरे सैनिकीकरण किए अवस्था में छोड देंगे। इसलिए आन्दोलन करें पर शांतिपूर्ण तरीके द्वारा, सावधान होकर। पूरे मधेश के भविष्य के विषय में सोचें।


 

३० वर्ष से राजनीति कर रहा हूँ !

image057

जो कहे कि ३० वर्ष से SLC परीक्षा ही दे रहा हूँ, आप उस प्रौढ को अपने बच्चों को पढाने और भविष्य बनाने के लिए रखिएगा ? कि उस कच्चे उम्र के ही सही नवयुवक को जो १ ही बार में SLC पास करके Bachelor’s / Master’sकरके आ गया हो , अपनी सफलता इंजिनियर/डाक्टर/प्रोफेसर आदि बनके प्रमाणित कर चुके हो? किसको रखिएगा ? वही लागू किजिए राजनीति में भी !

आज मधेश में कुछ अहंकार पालनेवाले लोग कहते हैं कि हम २०-३० वर्ष से राजनीति कर रहे हैं, सिके राउत तो आज आया है, हम कैसे सिके राउत के साथ चले जाएँ ? क्या २०-३० बर्ष से SLC परीक्षा देते रहना और फेल होना गौरव की बात है ? तो २०-३० वर्ष राजनीति करना और मधेश को मिला हुआ अधिकार भी छिन जाना गौरव की बात है ?

दूसरी बात, बारबार कह रहा हूँ कि आजादी आन्दोलन कोई सिके राउतका पेटेन्टेड आन्दोलन नहीं है, और इसके लिए सिके राउत का ही नेतृत्व स्वीकार करना बिलकुल आवश्यक नहीं है। आप सिर्फ लक्ष्य लिजिए मधेश की आजादी का,और कहीं से भी शुरु हो जाइए, किसी भी पार्टी, संघ-संगठन में रहते हुए, और आप खुद ही आजादी आन्दोलन का नेतृत्व ले सकते हैं। तो यहाँ पर सिके राउत के ‘अन्डर’ में रहकर ही काम करना पडेगा, ऐसी कोई बात है ही नहीं। यह हरेक लोगों का अपना आन्दोलन है, अपनी आजादी के लिए है। किसी पार्टी, संघ-संगठन या उसके नेता या अध्यक्ष के लिए नहीं।

खाली ज्यादा उम्र होना ही राजनैतिक नेतृत्व के लिए पर्याप्त नहीं है, बात है कौन सही रास्ते से लक्ष्य तक पहुँचाने की क्षमता रखता है, उसे नेतृत्व लेना होगा। वह आदमी आप भी हो सकते हैं। दादाजी सबसे बुजुर्ग है, ८० वर्ष के हैं,इसका मतलब ये नहीं है कि आप उन्हीं को प्लेन चलाने के लिए दे दें, बल्कि प्लेन चलाने का हुनर और कौशल अगर २०-२२ वर्ष का पोता का ही है, तो भलाई इसी में है कि उसी पोता को प्लेन चलाने के लिए दिया जाय।

कैनडा को ही देखिए: दो दिन पहले ही वहाँ पर प्रधानमंत्री निर्वाचित हुए है लिब्रल पार्टी के नेता ४३ वर्षीय, ईन्जिनियर, जस्टिन ट्रूडो, जो कैनडा के इतिहास में ही दूसरे सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री है। इससे पहले जोइ क्लार्क केवल ३९ वर्ष में कैनडा के प्रधानमंत्री हुए थे।

उसी तरह अमेरिका के सबसे प्रभावशाली और विजनरी राष्ट्रपतियों में से रुजवेल्ट केवल ४२ वर्ष में और जान एफ केनेडी भी ४३ वर्ष में ही राष्ट्रपति हुए थे। अंतरिक्ष के कार्यक्रम को जोडतोड से चलानेवाले और चन्द्रमा पर मानव को उतारने की योजना लानेवाले वही जान एफ केनेडी थे। उसी तरह, बिल क्लींटन और ग्रांट ४६ वर्ष में और बैरक ओबामा ४७ वर्ष में राष्ट्रपति हुए थे।

उसी तरह, विलायत के वर्तमान प्रधानमंत्री डेविड क्यामरन केवल ४३ वर्ष के उम्र में प्रधानमंत्री बनते हुए विलायत के विगत २०० वर्ष के इतिहास में सबसे युवा प्रधानमंत्री बने। उसी तरह, टोनी ब्लेयर भी केवल ४३ वर्ष के उम्र में ही विलायत के प्रधानमंत्री हुए थे। क्या वहाँ पर उनसे ज्यादा उम्र के दिग्गज नेता नहीं थे ?

इसिलिए तो पूर्वीय दर्शन में भी कहा गया है :

न तने थेरो होति येनस्‍स पलितं सिरो।
परिपक्‍को वयो तस्‍स मोधजिण्‍णोति वुच्‍चति ।।
यम्‍हि सच्‍चज्‍च धम्‍मो च अहिंसा सज्‍जमोदमो।
स वे वंतमलो धीरो हति पवुच्‍चति।।

‘सिर के बाल के पकने से कोई स्थविर नहीं होता, केवल उसकी आयु पक गयी है। वह तो वृथा वृद्ध कहलाता है। जिसमें सत्य, धर्म, अहिंसा, संयम और दम हैं, वही विगतमल और धीरपुरुष स्थविर कहलाता है।’

अब हम भी अपने अहंकारों को त्यागकर अपने पूर्वीय दर्शन का सम्मान करें, और समाज को उत्थान की ओर ले चलें।

* Canada’s New PM Ranks Among The Youngest World Leaders

http://www.vocativ.com/…/canadas-new-pm-ranks-among-the-yo…/

* David Cameron becomes youngest Prime Minister in almost 200 years

http://www.telegraph.co.uk/…/David-Cameron-becomes-youngest…


 

चाहे अपने रोके या गैर, कोई फर्क नहीं

image059

जितना रोकना है रोको, जितना दबाना है दबाओ, जितना सेन्सर करना है करो, क्योंकि हमारी ऊर्जा वहीं से तो बनेगी। और रोकने वाले, दबाने वाले, सेन्सर करने वाले, ‘सीके राउत’ नाम तलाश कर-करके मिटाने वाले अपने हो या पराये, कोई फर्क नहीं पड़ता, वे शक्ति ही प्रदान करते हैं। क्योंकि पहाडों को भी तोड निकल जाने की शक्ति तभी बन पाती है, जब बहते पानी को रोका जाता है। और जितनी बडी रूकावट, उतनी बडी शक्ति। इसलिए सभी को धन्यवाद।


 

सर पे गोली चल जाती है, पर सर से गुलामी नहीं जाती

image061

गुलामी मधेशियों के रुह-रुह में इस तरह समाई हुई है कि नेपलिया पुलिस और सेना इनके घर में घूसकर इनके मां-बहन-बीबी को बलात्कार कर रही है, इनके बच्चों को गोली मार कर खप्पड उडा रही है, तब भी ये मधेशी लोग ‘हजुर हजुर’ कहके “प्रदेश, सीमांकन और आयोग” का नारा लगा रहा है ! नेपाली शासकों से भीख मांग रहा है, उनके आगे गिडगिडा रहा है !

नेपाली शासकों ने मधेशी/थारु और अन्य आदिवासियों की अपनी भूमि छीन ली, मां-बहन को छीन ली और बलात्कार किया, गुलाम बनाया, और अब बच्चे-बच्चे के सर में गोली ठोककर उडा रहे हैं, फिर भी इन गुलाम मधेशियों को पुछो तो कहेगा – नहीं भाई हम नेपाल में ठीक है, हम भी तो नेपाली है, मधेशी पहाडी भाई-भाई, हाम्रो देश नेपाल हो। देश-विदेश में कोई संगठन भी बनाएगा तो पहले नेपाल शब्द जोडेगा, नेपाली झंडा दिखाएगा। मधेश आजादी के खिलाफ देने के लिए १ भी तर्क नहीं मिलता है कि मधेश क्यों न स्वतन्त्र देश बने, कुछ नहीं बोल पाते हैं ये, पर अंत में कहेगें – सब कुछ ठीक है पर हम विखण्डन नहीं चाहते, नेपाल ही अच्छा है। तो आपके सहोदर भाई‍-बहन क्या बुरे थे जो अंशबंडा करके उनसे अलग हो गए ?

पर आजादी की आवाज उठाने के लिए इनके पास जिगर नहीं होता, और अनेकों बहाना बनाएंगे।

इन मधेशी गुलामों को अपनी गुलामी की जंजीर से ही प्यार हो गया है, ये गुलामी की जंजीर तोडना ही नहीं चाहता। अगर एक बार मधेशी लोग केवल मन से गुलामी निकाल दें, तो आजाद होना तो १० दिन की बात है !

 


image063

आजादी वीरों की चाह है,
डरपोक और कायर अपने लिए बहाना ढूंढ लें

सैम्पल बहाना: हामी पनि त नेपाली हो / नेपाल मै अधिकार खोज्नु पर्छ / हाम्रो पहिचान र अधिकार को लडाई हो / संघीयता र स्वायत्तता हाम्रो एजेन्डा हो / ५०औं वर्ष अझ लडछौं / विस्तारै अधिकार मिलि हाल्छ नि / हामी विखण्डन चाहदैनौं / मिलेर बस्नुपर्छ / भूराजनीतिले दिंदैन / सम्भव छैन / खतरा छ / हाम्रो पार्टीको नीति फरक छ / पहिला यो लिऊँ, त्यसपछि न / कर्मचारी हो, मिल्दैन / राजनीतिसँग मलतब छैन / विदेशमा छु / विजनेश-व्यापार छ, फुर्सत छैन / तपाईं अगाडि बढनुस् हामी आउँदै गर्छौं आदि ।

पर याद रहे कल इस तरह से फिरंगी नेपाली सेना और पुलिस के द्वारा मारे जानेवाला बच्चा आपका भी हो सकता है !

जिसके पास जिगर होता है, वही आजाद मधेश का नारा लगा सकता है ! नेपाली उपनिवेश अंत हो, मधेश देश स्वतन्त्र हो।


image064

 

इतने अपमान के बाद तो शायद मुर्दा भी जाग जाते ! मुर्दा या मधेशी: किसमें ज्यादा आन है ?थोडा भी आन होता तो आज घर-घर में स्वतन्त्र मधेश का झंडा नहीं लहराता ?

एक था गांधी जिसे अंग्रेजों ने एक बार ट्रेन से क्या फेंका, अंग्रेजों के शासन को जड़ से उखाड़कर फेंक दिया और भारत को आजाद किया। परन्तु इतने मधेशियों को हर रोज नेपाली लोग बस से फेंकते हैं, क्लास से फेंकते हैं, पार्टी से फेंकते हैं, पिछवाडे पर लात मार के फेंकते हैं, मर्सिया, धोती, मुर्दा कहके फेंकते है । पर होता क्या है ? मधेशी लोग अपना पिछवाडा फिर से झाडते है, और फिर ‘हजूर हजूर’ कहके नेपालियों की गुलामी करने में लग जाते है। कोई आन और आत्मसम्मान नाम की चीज ही नहीं होती मधेशियों में ! नेपाली शासक, सेना और पुलिस इनके घर में घूसकर इनकी मां-बहन को बलात्कार करती हैं, और ये नेपाली नेताओं की चाप्लुसी में,उनसे भीख मांगने में तल्लीन रहते हैं !

अभी तो कुछ देखने को बचा ही नहीं, इस संविधान और नेपाल देश से कुछ लेना देना तो रहा ही नहीं मधेशियों के लिए। जिस तरह से नेपाली शासक मधेशियों के सारे अधिकार छीनकर हत्या कर रही है, मधेशी माता-बहनों को बलात्कार कर रहे है, अब भी कुछ देखना बाकी है ? लेकिन फिर भी मधेशी दो-चार दिन ऐसे चिल्लाएंगे और फिर देखिएगा वही नेपालियों की गुलामी करेगा, फिर वही नेपाली राज में ही अधिकार की भीख मांगने की बा करेगा ! फिर वही नेता, फिर वही सिस्टम, फिर वही गुलामी !


image066

 

सुवह का भूला

सुवह का भूला शाम को लौटे तो उसे भूला नहीं कहते,
पर रात को घर में हत्या करके और लूटके फिर सुवह भाग जाए, तो उसे क्या कहते हैं ?

मधेशियों के साथ बारबार धोखा क्यों होता है ? क्योंकि जो नेता ९९ बार झूठा, भ्रष्ट, नाकाम और गद्दार प्रमाणित हो चुके हैं, फिर भी १००वीं बार वह अगर झूठे ही सही सहानूभूति के एक ही शब्द मधेशी के लिए क्या बोल देंगे, मधेशी जनता उसी पर फिदा हो जाती हैं, मधेश का शेर, हिरो, आदि कहके तुरन्त नवाजने लगती है, उसी भ्रष्ट और गद्दार के पैर दूध से धोने लगती हैं, बड़ा स्टेज लगाकर उसीको बुलाती है, और ताली पर ताली बजाती हैं। मधेशी जनता खूब कहती हैं ‘सुवह का भूला शाम को लौटे तो उसे भूला नहीं कहते’ और उसी भ्रष्ट और गद्दारों का भव्य स्वागत करती है। पर होता क्या है वह आशा २-३ दिन भी टिक नहीं पाती। गद्दार अपना रंग दिखा ही देता है। परन्तु मधेशी जनता भी कम नहीं, ऐसे धोखा महीना में ६ बार मिलने पर भी फिर उसी नेता पर विश्वास कर लेती है। आप अपना फेसबुक टाइमलाइन तो देखें कि आपकी गाली और ताली किस तरह एक ही नेता के लिए महीना में ४ बार बदला है !

यही कारण है जो २०६३-६४ साल के मधेश आन्दोलन में ‘प्रमुख विलेन’ था आज उसे मधेश का नायक और प्रेमी का स्थान दे देते हैं, वही मधेश से जीतकर चला जाता है, जो दर्जनों बार मधेशी शहिदों का सौदा कर के बेच चुके है वही मसिहा कहलाता है, जो नेपाली शासकों के साथ मिलकर मधेशियों का अधिकार छीनता है और मधेशियों को मरवाता है, वही हिरो और मधेश का शेर कहलाता है ।

हम मधेशी ‘सुवह का भूला शाम को लौटे तो उसे भूला नहीं कहते’ कहके उन्हें अपने दिल और घर में प्रवेश करने देते हैं, पर वह रातको हमारे परिवारजन का खून करके, सब कुछ लूटकर, सुवह पुन: भाग जाता है। और यह एक बार नहीं बार-बार होता है।


 

प्रश्‍न: क्या अब भी गठबन्धन को अभी के आन्दोलन में नहीं उतरना चाहिए ?
image068 image070
१ दिन की मोटरसाइकल रैली पर अभी के आन्दोलन में लगभग 30 करोड खर्च आता है ! और स्वराजी के पास ३० रुपैया नहीं रहता है ! तो खाली घोषणा करने से हो जाएगा ?

गठबन्धन ने वर्तमान समय में आन्दोलन में औपचारिक रुपसे सरिक नहीं होने के लिए (या अभी के आन्दोलन को ही ‘आजादी आन्दोलन’ में बदलने का निर्णय न करने के लिए) अपने सर्कूलर में ३ कारण दिए थे। वह सर्कूलर आज से करीब डेढ-दो महीने पहले अपने संयोजकों के बीच में और फेसबुक के कुछ ग्रुप में भी शेयर किया गया था।

१. निर्णायक होना या न होना: शुरु करने के बाद आन्दोलन को निर्णायक बना पाएँगे यानि ‘स्वतन्त्र मधेश’ अभी हो जाएगा ? उसका जवाब था: जनता तैयार नहीं हैं, हम भी अपेक्षित रुप से तैयार नहीं है, पृष्ठभूमि भी एक स्टेप पीछे है। इससे इसलिए आंदोलन निर्णायक न होकर ‘सम्झौता’ या ‘दमन’ में ही खत्म होगा, निर्णायक नहीं हो पाएगा – ऐसा हम सब का मानना था।

२. तीनों ओर से मार:
(क) नेपाल सरकार आन्दोलन को ‘विखण्डनवादी’ कहके नाम देते हुए ‘उससे समझौता और वार्ता क्या?’ कहते हुए उग्र दमन पर उतरती और बहुसंख्यक जनता अहिंसात्मक आन्दोलन में प्रशिक्षित नहीं होने की वजह से आन्दोलन अनियन्त्रित होता, हिंसामुखी हो जाता

(ख) मधेशी पार्टीयां हम पर और हमारे कार्यकर्ताओं पर दमन की नीति लेने के कारण (और सम्भवत: दमन के लिए नेपाल सरकार का साथ देने के कारण) मधेश आन्तरिक द्वन्द्व में फँस जाता

(ग) जनता अंत में थकित होती और कहती – आजादी के लिए आन्दोलन तो किया, पर मिली तो नहीं।

इसलिए तीनों ओर से मार ही मार था।

३. आर्थिक स्थिति: हम सब इस तरह का प्रशिक्षण और आन्दोलन की तैयारी कर रहे हैं कि जनता अपना चावल-रोटी बाँधकर, नंगे पाँव चलते हुए भी कल महिनों आन्दोलन करे, पर वह तैयारी अभी पूरी नहीं हुई है। मधेशी जनता की मानसिकता बदल तो रही है, पर अभी लक्ष्य से हम दूर है। इस अवस्था में आन्दोलन करने के लिए, जैसा की अभी दिखाई दे रहा है, व्यापक पैसा की लगानी करनी पडती है, २०ओं जिले में हरेक दिन साधारण विरोधसभा के लिए भी लगभग २ करोड से ३ करोड खर्च होता है, जो हम सब के पास उपलब्ध नहीं है। उदाहरण के लिए अभी मधेशी पार्टियों के कार्यक्रमों की ही समीक्षा किजिए:

– आप देख सकते हैं कि एक आमसभा करने के लिए कम-से-कम १५-२५ लाख खर्च किया जाता है। उतना बस, ट्रैक्टर भाडा पर लाने, खानपिन की व्यवस्था करने, कार्यकर्ताओं को परिचालित करने में उससे कहीं ज्यादा खर्च आता है।

– एक मोटरसाइकल रैली पर १०ओं लाख खर्च होता है। जैसा कि आज के समाचार अनुसार सप्तरी से १५०० मोटरसाईकल विराटनगर गया था, अगर पेट्रोल खर्च और खाना मिलाकर एक आदमी पर केवल १००० ही रखें तो १५ लाख एक मोटरसाइकल रैली के लिए खर्च होता है। ऐसे रैली २० ओं जिले में केवल एक दिन करने पर खर्च आता है: 15 लाख x 20 जिला = 30 करोड। और विगत 45 दिन में अगर 10 दिन भी ऐसे मोटरसाइकल रैली निकले तो: 300 करोड, यानि 3 अर्ब !

– उसी अनुपात में सोचिए कि जिस तरह से हरेक दिन हरेक जिले में सभा हो रही है, जुलुस हो रही है, गांवगांव से कार्यकर्ता परिचालित किए जा रहे हैं, उसके लिए कितना खर्च होता होगा !

– उसी अनुपात में सोचिए कि २०ओं जिले में पूरे हुलाकी राजमार्ग में जो “मानव-साङ्लो” बनाने का कार्यक्रम है, जो कि वास्तव में बहुत ही इम्प्रेशिव है, उसके लिए कितना खर्च आएगा ? पत्रपत्रिकाओं की रिपोर्ट माने तो २० करोड़ खर्च किया जा रहा है। (आशा करें वह रिपोर्ट गलत हो)

तो जो लोग हम सबको (गठबन्धन को) अभी भी दबाब दे रहा है कि: “अब तो संविधान भी जारी हो गया, पार्टियों को देख लिया, अब तो अपना आन्दोलन शुरु किजिए !”, कृपया ये बातें गौर किजिए ! खाली आन्दोलन की घोषणा कर देने से नहीं न होगा ! आगे-पीछे सभी सोचकर, परिणाम की सुनिश्चितता करके, उपयुक्त समय आने पर, ही न आन्दोलन की घोषणा करेंगे ! हां अभी (या इससे पहले) आन्दोलन में उतरने से व्यक्तिगत रुप में “शायद” हम “हिरो” हो जाते, पर मधेश के लिए क्या उपलब्धि होती ?

गठबन्धन पूरी तरह स्वयंसेवक पर आधारित है, जो अपने खर्च पे दु:ख-सु:ख करके फिल्ड पर काम करते हैं; कभी उनके पास निकट जिले में जाने के लिए बस भाडा तक नहीं होता, कभी दिनभर भूखे ही प्रशिक्षण देते हैं। गठबन्धन में हम सभी का लगभग वही हाल है – इससे पहले के पोस्ट में भी लिखा था कि किस तरह सहसंयोजक और प्रवक्ता को भी बस-भाडा नहीं होने की वजह से पास के जिलों में ही हो रही आमसभा में सरिक नहीं हो पाए थे। इसलिए सोच-समझ कर संयमतापूर्वक ही हम कोई बात करें, अपेक्षा रखें तो बेहतर। एक आग्रह।

यही कारण है कि आज जिस नेताओं पास सैकडों करोड की सम्पत्ति है, जो पूर्वमंत्री रहा है, वही लोग अभी के आन्दोलन में ‘लीड’ कर पा रहे हैं, बाकी जो उत्साही और इमान्दार कुछ युवा समूह या कुछ इमान्दार नेतालोग फिल्ड पर देखे भी गए, वह खास कुछ कर नहीं पा रहे हैं। पश्चिम के जिलों में थारुओं में अभूतपूर्व उत्साह, एकता, और आन्दोलन की ईच्चा के बाबजूद आन्दोलन बैठ जाने में आर्थिक कारण भी प्रमुख रहा है, थारुओं को समर्थन देनेवाले कोई उद्योगपति आदि भी उधर नहीं मिल पाता।


image071

मधेशी जनता सक्रिय है, सचेत नहीं
– वरना फिर इतना धोखा देने और गद्दारी करने के बाद वही मधेशी नेता पुन: कैसे मधेश में घूम रहा है ?
– वरना कल तक मधेशी जनता जिसका पुतला दहन कर रही थी, वही मंत्री बनने के बाद दिपावली कैसे ?

सक्रिय होना और सचेत होना – अलग-अलग बातें हैं। वर्तमान मधेश आन्दोलन को देखकर बहुत लोग कह रहे थे/हैं कि मधेशी जनता अब अपने अधिकार के लिए **सचेत** हो गई है, इसिलिए देखो आन्दोलनरत है,इसलिए मांग पूरी नहीं होने तक आन्दोलन जारी रहेगा। पर दु:ख के साथ कहना पड रहा है कि यह चेतना नहीं है, यह केवल सक्रियता है। सक्रियता यान्त्रिक होता है, जैसे मशीन के पार्टपूर्जा भी सक्रिय होता है, चलता रहता है, घडी की सूई भी सक्रिय होती है, वह भी दिनोंरात चलती रहती है। पर केवल रातोंदिन चलते रहने से ही उस मशीन और घडी को तो आप चेतनशील नहीं कह सकते, सचेत नहीं सकते !

उसी तरह मधेशी जनता सडक पर निकली, आन्दोलनरत हुई, जोर-जोर से नारा-जुलुस लगाई, दिनरात धरना दी, कई लोगों ने जान भी गँवाई – यह केवल सक्रियता है, चेतना नहीं। ठीक उसी तरह की जैसे घडी की सूई चलती है, यन्त्रवत सक्रियता। पार्टपूर्जा में चाबी भरने भर जिस तरह से चलता है, ठीक वैसी ही सक्रियता।

चेतना होता तो मधेशी जनता सोच सकती कि किस लक्ष्य के लिए आन्दोलन करना है, क्या सही है क्या गलत है, किस पर भरोसा करना है किस पर नहीं करना है। चेतना होता तो मधेशी जनता सही कार्यों का सराहना करती और गलत कार्यों का विरोध। चेतना होता तो निस्वार्थ नेताओं को कदर करता और धोखा देनेवालों का प्रतिकार ! पर मधेशी जनता ने वह किया ?

नहीं। आखिर आन्दोलन शुरु होने से पहले मधेशी नेताओं ने क्या कसर छोडी थी मधेशी जनता को धोखा देने में ? ५४ शहिदों को बेचकर ५६ मंत्री हुए, और मधेशी शहिद के परिवार और घायलों को भूलकर बस अपने लिए भ्रष्टाचार किए, पैसा कमाए, दो-चार बंगला बनाए। सांसद भी अपनी पत्नी, प्रेमिका और समधी को ही बनाए, तो कभी मधेशी जनता के मत को करोडों में बेचकर व्यापारियों को सभासद बनाए। और अन्त में ५४ शहिदों की बलिदानी को बेचकर मधेशी पहिचान भी मिटाते हुए पहाडि पार्टियों के साथ ही विलिन भी हो गए। और मधेशी पर घर-घर में सशस्त्र प्रहरी लगा दिए (‘एकीकृत सुरक्षा परियोजना’ के नामपर सशस्त्र को मधेश में गाँव-गाँव लगानेवाले मधेशी गृह मंत्री ही थे और उस समय कैबिनेट में सभी दिग्गज मधेशी नेता भी थे)। यानि कि कोई कसर नहीं छोडा था मधेशी नेताओं ने मधेशी जनता को धोखा देने में, दमन करने में और उल्लू बनाने में।

परन्तु हुआ क्या ? मधेशी जनता फिर से उन्हीं का फूलमाला लेकर स्वागत किया, दूध लेकर उन्हीं के पैर धोने गए, इस आन्दोलन में। तो होना क्या था ? इधर मधेशी जनता मरती रही, मातम मनाती रही, संविधान जलाती रही, और उधर मधेशी नेता मधेशियों पर गोली चलानेवाले शुशील कोईरालाको प्रधानमंत्री बनाने के लिए मतदान करने के लिए चले गए ! जिस सुशील कोईराला का पुतला दहन करने के लिए मधेशी नेता कार्यकर्ताओं को इधर बोल रहे थे, उसी को वोट देकर जिताने के लिए मधेशी नेता ने वोटिंग की।

और मधेशी जनता फिर बोली: बहुत बडा धोखा हुआ, अब धोखा नहीं होगा। पर ये क्या ?

मधेशियों के साथ गद्दारी करते हुए, आन्दोलनकारियों को धोखा देते हुए उधर प्रधानमंत्री निर्वाचन में वोटिंग करने के बाद फिर वही मधेशी नेता मधेश में घूम रहे हैं, और आप तो फिर ताली बजा रहे हैं , उसी गद्दारों का स्वागत कर रहे हैं ! ये कैसी चेतना है ?

उतना ही नहीं, कल तक जो मधैशी जनता कांग्रेस, एमाले और एमाओवादी को गाली करते-करते नहीं थकते थे, जिन लोगों ने मधेशियों को सारे अधिकार छीनकर संविधान जारी किया और मधेशियों पर गोली बरसाता रहा, वही लोग आज मंत्री बनकर आ रहे हैं, तो मधेशी जनता दीपावली मना रही है, उनके लिए बडेबडे प्रशंसा गान लिख रहे हैं ! कहाँ गया भई चेतना !

इसलिए कहता हूँ मधेशी जनता अभी भी चेतना से परे हैं, दूर हैं। सडक संघर्ष केवल सक्रियता है। और मधेशी जनता को इस तरह से यन्त्र के रूप में चलाकर मधेशी नेता बस दुरुपयोग करते रहे हैं, मधेशी जनता बस मधेशी नेताओं द्वारा प्रयोग होता रहा है।

मधेशी जनता को चेतनशील बनना ही होगा, कोई आन्दोलन करने से पहले अपनी राजनैतिक चेतना में निखार लाना ही होगा। उसके बाद ही मधेशी जनता धोखा नहीं खाएगी, अपने लक्ष्य तक पहुँच सकेगी।


 

७५ दिन आन्दोलन !

स्वतंत्र मधेश देश के लिए ७५ दिन तक आन्दोलन किए रहते, तो मधेश आज आजादी के बहुत ही निकट होता, शायद आजाद भी हो जाता ! अगर अंतरिम मधेश संसद और सरकार गठन कर लिया होता, तो भारत,अमेरिका, यूरोप, बेलायत, यूएन आदि द्वारा जितना भी अन्तरराष्ट्रीय समर्थन आज मिल रहा है, वह मधेश सरकार को मिलता, और वह स्वत: मधेश देश को मान्यता देने के समान होता।

परन्तु अभी भी भोलीभाली मधेशी जनता को भ्रष्ट, विजनलेस, दूराचारि मधेशी नेताओं ने भ्रम में डालकर ही रखा है, और अपने चंद स्वार्थ के लिए, वोट-बैंक बढाने, कल मंत्री बनने मधेशियों को केवल मरवा रहे हैं, अपनी पार्टी की सदस्यता बाँट रहे हैं, आन्दोलनकारियों को बीच सडकपर मरते छोडकर प्रधानमंत्री के चुनाव में वोट डाल रहे हैं, आर-पार का आन्दोलन कहके उधर सांसद पद की भत्ता खा रहे हैं…क्या बात है!

अब जैसी मर्जी मधेशी जनता की। मधेशी जनता को इन गद्दार मधेशी नेताओं द्वारा एक बार, दो बार नहीं, बार-बार धोखा खाना ही अच्छा लगता है..। लक्ष्य सही किसको लेना है यहाँ? बस हथौडा चलाना है, घायल मधेशी होते रहेंगे, किसको क्या पडी है ?

image073


 

 image075

BATNA (मोर्चा और नेपाल सरकार बीच हो रही वार्ता के सन्दर्भ में)

मधेशियों की आजादी और अधिकार छीननेवाली वार्ता और सम्झौता से सदैव बेहतर विकल्प है: आजादी आन्दोलन का ऐलान करना। वार्ता करने गए मधेशी नेता व्यवस्थापन के BATNA (best alternative to a negotiated agreement)सुत्र का इस्तेमाल करके देख लें।

स्वराज अभियान के MLT (Madhesh Leadership Training) में भी Negotiation Skills स्लाइड पर इस विषय के ऊपर चर्चा की गई है। अभी के लिए आप नीचे के लिंक पर भी कुछ सामग्री देख सकते हैं।

वार्ता के लिए ४ अहम चीजें:
– Listing alternatives
– Evaluating options
– Establishing the course you should pursue if the negotiation fails
– Calculating your reservation value – the lowest value deal you are willing to accept


 

जनमतसंग्रहलाई एजेन्डा बनाए आन्दोलन हुने – डा. सी. के. राउत 
२०१५ जुलाई ७
२०७२ साल जेठ २५ गते भएको १६-बुँदे सहमति बिगत एक दशकको गतिरोध पछि नेपाली शासकवर्गको राजनीतिक उत्कर्षको “अन्तिम कडी” साबित भएको छ भने मधेशी लगायत नेपालका आदिवासी-जनजातिहरूको लागि अन्तिम आशाको अन्त। जनमुखी, समावेशी र न्यायमूलक संविधान लेखनको लागि सबभन्दा बढी आस्था रहेको संविधान सभा समेतबाट सदियौं देखि नेपाली/गोरखाली औपनिवेशिक शासनमा प्रताडित, उपेक्षित र उत्पीडित राष्ट्रहरूले कुनै अधिकार न पाउने, बरु उल्टा गुमाउने नै परिस्थिति आएपछि उनीहरूसँग भएको अन्तिम अस्त्र समेत असफल भएको छ। सय-दुईसय वर्षमा मात्र प्रयोग हुने संविधान सभाको ब्रह्मास्त्र एक दशक मैं दुई पटक नेपालमा प्रयोग गरिए पनि नेपाली शासकको भीमकाय निरकुंशता र निर्लज्जताको अगाडि असफल भए पछि, मधेशी लगायत नेपालका आदिवासी जनजातिहरू हिस्स परेका छन्। यस्तो परिस्थितिमा पनि तिनीहरूले एउटा प्रेस-विज्ञप्ति निकाल्ने वा दुई पेज कागजको खोस्टा जलाउने औपचारिकता पूरा गर्नु बाहेक अरू उपाय न देख्नुले तिनीहरूको निरीहता देख्न सकिन्छ। मधेशीहरूको दृष्टिकोणबाट यस्तो परिस्थितिको विवेचना र निकासको रुपमा केही बूँदाहरू छलफलका लागि तल दिइएको छ:

* नेपालको संविधानमा लेखाएर केही हुँदैन

पूरा इतिहासले देखाउँछ, संविधान उसको नै हुन्छ, जसको सेना हुन्छ। नेपालमा सार्वभौम भनिएको संविधानसभामै मार्शल लगाएर संविधान लेखनको प्रक्रिया पूरा गरिनु त्यसको जीवन्त प्रमाण हो। बिगत दशकमा नै संविधानमा लेखिएका कुरालाई शासकवर्गका तीन-चार जना नेता मिलेर आफू अनुरुप जहिले पनि अर्थ्याएको, बदलेको र प्रयोग गरेको कुराले यसको प्रामाणिकतालाई प्रस्टाउँछ। नेपालको अन्तरिम संविधान २०६३ को धारा १३८ मा प्रष्ट लेखिएको छ, “मधेशी जनतालगायत आदिवासी जनजाति र पिछडिएका तथा अन्य क्षेत्रका जनताको स्वायत्त प्रदेशको चाहनालाई स्वीकार गरी नेपाल संघीय लोकतान्त्रिक गणतन्त्रात्मक राज्य हुनेछ । प्रदेशहरु स्वायत्त र अधिकारसम्पन्न हुनेछन्।” तैपनि त्यो किन कार्यान्वयन भएन? मधेशीलाई सेनामा न लिने कुरा वा नागरिकताबाट बंचित गरिने कुरा संविधानमा कुन ठाउँमा लेखिएको छ त? तैपनि किन मधेशीहरू सेनामा प्रवेश गर्नबाट प्रतिबन्धित हुँदै आएको छ? किन दशौं लाख मधेशीहरू नागरिकताबिहीन छ? भनेपछि नेपालको संविधानमा मधेशी नागरिकलाई पनि नागरिकता दिने, समानुपातिक समावेशी गराउने, स्वायत्त प्रदेश दिने भन्ने कुरा लेखिहाले पनि केही फरक पर्दैन, किनकि त्यो संविधान नेपाली शासकवर्गको मुठ्ठीको संविधान हो, नेपाली सेनाको पाइला मुनि कुल्चिएको संविधान हो। नेपाली शासकवर्गका तीन-चार जना नेताले चाहेमा त्यो जतिखेर पनि बदलिन्छ, त्यस्को जस्तो सुकै पनि अर्थ लाग्छ, र त्यो जतिखेर पनि निलम्बित हुन सक्छ। त्यो सम्भावना मात्र हैन, त्यो नै हुँदै आएको छ। जुन संविधानमा केही कुरा लेखाउन मरिहत्ते गरेर बिगत एक दशक खर्चिएको छ, त्यो संविधान एक दशक चल्ने पनि कुनै ग्यारेन्टी नै छैन, नेपालको संवैधानिक इतिहासले त्यही देखाउँछ। त्यस्तै अहिले नै दुई-तिहाई बहुमतले संघीयता, गणतन्त्र र धर्मनिरपेक्षता समेतलाई जतिखेर पनि खारेज गर्न सक्ने व्यवस्था संविधानमा गर्न लागिए पछि ६० वर्षभन्दा बढीको संघर्षपछि ल्याइएको संघीयतालाई केही क्षण मैं मेटाउन सकिनेछ, हजारौं जनताको बलिदानी पछि ल्याइएको गणतन्त्रलाई पल भर मैं नेपाली शासकहरूले मेटाउन सक्नेछन्, भन्ने मधेशीहरूको लागि त्यस्तो संविधानको औचित्य के? यतिका कुरा प्रष्ट भएपछि मधेशीहरू नेपाली शासकको संविधानको मायाजाल भन्दा बाहिर निस्कनै पर्छ, र आफ्नो स्वतन्त्र संविधानको पक्षमा लागिनु पर्दछ।

* संघीयता औपनिवेशिक शासनको समाधान होइन

संघीयता आउँदैमा मधेशमा मधेशबाहिरबाट आएर कब्जा जमाएका सेना र सशस्त्र प्रहरी फर्केर जाँदैनन्, र त्यो न गए सम्म जतिसुकै संविधान बनाए पनि, जुनसुकै राजनैतिक व्यवस्था ल्याए पनि, जस्तो सुकै ऐन-कानून बनाए पनि मधेशको लागि केही हुनेवाला छैन, किनकि कुनै पनि संविधान, राजनैतिक व्यवस्था र ऐेन-कानूनलाई मधेशमा मौजूद औपनिवेशक सेना र सशस्त्र प्रहरी लगाएर जति बेला पनि नेपाली शासकले निलम्बन गर्न सक्छ। दोस्रो, संघीयता आउँदैमा मधेशमा रहेको आप्रवासनको समस्या (पहाडबाट मधेशमा झरेर बस्ने क्रम) को समाधान हुँदैन। त्यो न भए पछि आगामी २५-५० वर्षमा मधेशको हालत के हुने हो? आफ्नै भूमि र घरमा मधेशीहरू नेपाली शासकवर्गका मान्छेहरूको दास मात्रै बन्ने होइन, मधेशबाटै विस्थापित भएर शरणार्थी बन्नु पर्ने हो कि भन्न सकिन्न। बिगतमा पहाडबाट भएको बसाईं-सराईंले मधेशका मूलबासी र आदिवासीहरू कसरी विस्थापित भए, कसरी दास, कमैया र कमलरी बन्न पुगे, र कसरी अहिले आफ्नै भूमिमा आप्रवासी पहाडीहरूको त्रासमा बाँच्न विवश छन् भनेर हेर्न झापा र चितवन जस्ता जिल्लालाई हेर्दा पुग्छ, नेपालगंजको दंगालाई सम्झिंदा हुन्छ। तेस्रो, संघीयता आउँदैमा मधेशीहरूको लागि अति नै महत्त्वपूर्ण नागरिकता, विदेश र सुरक्षा नीति मधेश प्रदेशको मातहत आउने कुरा हुँदैन, ती कुराहरू केन्द्र मै हुन्छ। त्यसको मतलब संघीयता आइसके पछि पनि नेपाली शासकवर्गले एक-माथि-अर्को षड्यन्त्रकारी नागरिकता, विदेश र सुरक्षा नीति अपनाउँदै मधेशीहरूलाई अनागरिक बनाउँदै शरणार्थी बनाउने अभियानमा लागिरहने छन्, जसरी अहिले नै ल्याउन लागिएको नागरिकताको प्रावधानले छर्लंग पार्छ। चौथो, संघीयता आउँदैमा मधेशको जागिर मधेशबासीलाई नै दिइने ग्यारेन्टी हुँदैन। अरु जागिरको त के कुरा गोरखाको मान्छे मधेशमा उठेर मुख्यमंत्री नै बन्न सक्नेछन्, लमजुंगको मान्छे आएर मधेशमा सिडिओ र एसपी बनिरहनेछन् र तिनीहरूले त्यतिबेला मधेशलाई झन् बढी औपनिवेशिक रुपमा प्रताडना दिनेछन्, शोषण गर्नेछन्। पाँचौं, संघीयता आउँदैमा मधेशको जल, जमीन, जंगल, खानी लगायतका साधन-स्रोतमाथि मधेशका जनताको नै पूर्ण नियन्त्रण हुन सक्दैन, र त्यो न भए पछि नेपाली शासकले कसरी शोषण गर्ने छन् र मधेशको साधन-स्रोतलाई कसरी ध्वस्त पार्ने छन् भनेर हेर्न अहिले नै भूकम्पको नाममा चुरेमा थालिएको विनाश-लीलाबाट देख्न सकिन्छ। त्यस्तै, मधेशीहरूको लागि पहिचान, आय स्रोतको बाँडफाँड, उचित लगानी, सुरक्षा आदिको समस्याहरू पनि यथावत् नै रहनेछन्। र यी सब कुराहरू हुनाको मूल कारण एउटै हो कि मधेशमा औपनिवेशिक शासन छ, मधेश परतंत्र छ। नेपाली औपनिवेशिक शासनले प्रताडित परतंत्र मधेशको कुनै पनि मूलभूत समस्यालाई संघीयताले समाधान गर्नै सक्दैन, त्यसको लागि नेपाली औपनिवेशिक शासनको अन्त भई मधेश स्वतन्त्र हुनै पर्छ।

* विसर्जनवादी प्रवृत्ति

नेपाली शासकवर्ग त मधेशी लगायत नेपालका आदिवासी जनजातिहरूलाई अधिकारविहीन बनाउन लागेका नै छन्, उनीहरूको लक्ष्य प्रष्ट नै छ, तर उत्पीडितहरूको मुद्दा उठाउनेहरूमा पनि विसर्जनवादी प्रवृत्ति हाबी हुँदै आएको छ। पहिचानको मुद्दा देखाएर १७००० को ज्यानै जाने गरी भएको माओवादी सशस्त्र आन्दोलन होस् कि मधेश आन्दोलनमा बलिदानी दिएका ५४ भन्दा बढी शहीदको रगत र चित्ताबाट नै जन्म भएको मधेशी जनअधिकार फोरम, तिनीहरूले आ-आफ्नो मुद्दालाई पूरै मेटाई विसर्जन मात्रै गरेनन्, आफू पनि पूरै विलय नै हुने प्रवृत्ति तिनीहरूमा देखिएको छ। कसले परिकल्पना समेत गर्न सक्छ कि मधेशी जनअधिकार फोरम आफ्नो नामबाट ‘मधेशी’ शब्द नै हटाउँदै जेठ ३२ गते ‘खस समावेशी राष्ट्रिय पार्टी’ र ‘संघीय समाजवादी पार्टी’ सँगै विलिन भयो? त्यस्तै पक्कै पनि विश्वास गर्न गार्‍हो हुन्छ, सीमांकन र नामांकन बिनाको संघीयताको लागि प्रचण्डले साइन गर्दै एमाले उपाध्यक्ष तथा गृहमन्त्री बामदेव गौतमलाई आफ्नै निवासमा बोलाएर एमालेसँग कार्यगत एकताको प्रस्ताव गरे। याद रहोस्, नयाँ गठित ‘संघीय समाजवादी फोरम’ पार्टीमा पनि वरिष्ठ नेता अशोक राई, अध्यक्ष उपेन्द्र यादव र सहअध्यक्ष राजेन्द्र श्रेष्ठ तीन वटै एमालेका पुराना नेता-कार्यकर्ता हुन्। त्यही भएर मुद्दा विसर्जन मात्रै हैन, पहिचानको नामोनिशान मेटाएर विचलन भई विलयन नै हुने प्रवृत्ति प्रगाढ रूपमा देखिएको छ। यसको चर्चा यहाँ गर्नुको आशय, कुनै पनि समाधान खोज्दा राजनैतिक पार्टी वा शक्तिहरूमा विसर्जनवादी प्रवृत्ति हाबी हुन सक्ने भन्ने कुरालाई गणना गरिनु पर्दछ, र आगामी समाधान कुनै नेतृत्व, पार्टी वा मोर्चामा आश्रित न भएर सीधै जनताको हातमा उपलब्धि दिने खालको हुनुपर्छ।

* अलग देश हैन, आत्मनिर्णयको अधिकार सहितको समग्र मधेश ?

स्वतन्त्र मधेशको माग सशक्त हुन थाले पछि केही समूहहरूले ‘छुट्टिन पाउने सहितको आत्मनिर्णयको अधिकार सहितको समग्र मधेश’ ले पुग्छ, भनेर जनतालाई दिग्भ्रमित गरिरहेका भेटिन्छन्। तिनीहरूले पहिला संघीयतामा जाने र त्यसपछि मात्रै आत्मनिर्णयको अधिकार प्रयोग गरेर स्वतन्त्र मधेश देशको स्थापनामा जानु पर्ने विचार राख्छन्। छुट्टिन पाउने सहितको आत्मनिर्णयको अधिकार आफैंमा कम्ता आकर्षक माग होइन, तर त्यो अधिकार आखिर सुनिश्चित गर्ने कसरी हो? अन्तत: त्यही नेपालको संविधानमा लेखेर। र नेपालको संविधानमा लेखिदैँमा के हुन्छ भनेर अघि नै भनि सकिएको छ। नेपालको संविधानमा लेखिदैँमा त्यो अधिकार जनतालाई प्रयोग गर्न दिइएला, त्यसको कुनै सुनिश्चितता नै छैन, जसरी कि अन्तरिम संविधानको धारा १३८ मा स्वायत्त प्रदेशको व्यवस्था हुँदाहुँदै पनि आज संघीयता र स्वायत्तता धरापमा परेको छ। अझ जुनसुकै बेला संसदको दुई-तिहाईले आत्मनिर्णयको अधिकारको धारालाई नै जतिखेर पनि धोती लाइदिन सक्छ। त्यही भएर आत्मनिर्णयको अधिकार सहितको समग्र मधेश नेपालको संविधानमा सुनिश्चित गर्दैमा पनि कुनै उपलब्धि हुँदैन, त्यो नेपाली शासकवर्गको दुई-चार नेताको ईशारामा जतिखेर पनि सखाप हुनसक्छ, हुनेछ। र त्यही भएर त्यस्तो क्षणिक उपलब्धिका लागि संघर्ष गर्नु र बलिदानी दिनु भन्दा सीधै स्वतन्त्र मधेशका लागि स्पष्ट रुपमा संघर्ष गरेर स्थायी उपलब्धि हासिल गर्नु हरेक तरीकाले उपयुक्त हुन्छ।

* “ऊ खराब, म असल” प्रवृत्तिको बिगबिगी

संविधान-सभामा भाग न लिएका नयाँ पुराना केही राजनैतिक खेलाडीहरूले जनतालाई के भनेर दिग्भ्रित गरिरहेका छन् भने “संविधान सभा वा सत्तामा जानेहरू गद्दार भए, तिनीहरू धोकेबाज भए, हामी गएपछि सबै कुरा ठीक हुन्छ।” तिनीहरूले “अरू खराब, म असल” भन्ने संदेश लिएर जनतामा डुल्दै आएका छन्। दुर्भाग्यले भनौं, त्यसमा ७-७ चोटी मंत्री भएर जनतालाई आफ्नो काम देखाइसकेका पूर्वमंत्रीहरूदेखि खान नपाई दूधबाट झींगा फालिए झैं फालिएकाहरू समेतको झुण्ड छ। भलै जनतालाई तिनीहरूले ढाँटून् तर उनीहरू समेतलाई थाहा भएको तीतो यथार्थ के हो नेपाली राजको संरचना नै त्यस्तो छ कि त्यहाँ कुन पार्टी वा कुन नेता जान्छ भन्ने कुराले मायना नै राख्दैन। त्यहाँ राजा हरिश्चन्त्रलाई बोलाएर पठाए पनि केही हुनेवाला छैन, बढी भए सन्किएर राजीनामा दिएर हो वा लाती खाएर फेरि फर्किने जमीन मै हो। त्यही भएर हामी त राम्रै गर्न गएका हौं, फलानो नेता गद्दार भए, हामीलाई धोका दिए भनेर असंतुष्ट पक्षले भनेर पुग्दैन। न त संविधान सभा बाहिर रहेका शक्तिहरूले हामीले पहिला नै भनेका हौ, संविधान-सभामा भाग लिनेहरू गद्दार हुन् भनेर सराप्दै ‘खट्टे अंगुर’ भन्ने प्रवृत्ति देखाएर पुग्दैन। त्यो उनीहरू आफैंले अनुभव गरेका कुरा हुन् कि मंत्री भइसके पछि पनि चाहँदा-चाहँदै पनि के-कति गर्न पाए, आफ्नो अधिकारको कति प्रयोग गर्न पाए? ती राष्ट्रपति वा उपराष्ट्रपतिको स्थिति देखेर पनि कसैले सहजै बुझ्ने कुराहरू हुन् कि तिनीहरूले के नै गर्न सक्छन्। त्यहाँ कुनै नेता वा पार्टीको दोष मात्रै हुँदैन, खास कुरा नेपाली सत्ताको संरचना नै त्यस्तै छ कि त्यहाँ कुनै पार्टी, कुनै नेता, कुनै अभियानी गएर केही हुँदै-हुँदैन। त्यही भएर यहाँ व्यक्ति, पार्टी, मोर्चा वा अभियान मात्रै प्रतिस्थापन होईन, “तिमी नराम्रो,म राम्रो” भनेर प्रतिस्थापन गर्ने मानसिकताले पुग्दैन, पूरै प्रक्रिया नै परिवर्तन गर्नुपर्छ, पूरै ‘फ्रेमवर्क’ र ‘डोमिनियन’ नै पुनर्भाषित गर्नुपर्छ।

* अझ प्रतिक्षा गर्नुले अस्तित्व नै मेटिने खतरा

ठूलो संख्यामा नागरिकहरूलाई नागरिकताबाट बंचित गर्ने प्रावधानहरू ल्याउनु, नागरिकता बिना मतदाता नामावलीमा नाम दर्ता गराउन न पाउनु, जन्मदर्ता देखि लिएर जागिर खाँदा सम्म एक माथि अर्को किचलो झिकेर सास्ती दिनु,सशस्त्रको बेस क्याम्प सघन रूपमा ठाउँठाउँमा राखिनु, हातहतियार खरिद गर्नु, जंगल मासेरै भए पनि ठूलो मात्रामा पहाडबाट आप्रवासीहरू ल्याएर बसाउनु, र मानवअधिकार सम्बन्धी तथा कुटनैतिक संघ-संस्थामाथि दबाब सिर्जना गरेर‘ब्याक’ हुन लगाउनु मधेशीहरूको लागि आसन्न ठूलो खतराको घंटी हो। झापा र चितवनमा पहाडीको आप्रवासन भएपछि तिनीहरू भूमिहीन, नागरिकताहीन भएर विस्थापित भए, र बचे जति पनि दास भनेर नेपाली शासकको पैतालामुनि बिना कुनै अधिकार किचिएर बस्न बाध्य भएका छन्, त्यही कुराको पुनरावृत्ति बाँकी जिल्लाहरूमा पनि गराइँदैछ र एक-दुई दशकमा मधेशका अन्य जिल्लाहरूको पनि स्थिति त्यस्तै हुन पुग्नेछ। २००८ सालदेखि हामीले अधिकार पाउने नाममा कुरेर बस्दा २०५८ साल सम्ममा नै मधेशमा पहाडीहरू ६% बाट बढेर ३३% हुन पुगे, भन्ने अझ १० वर्ष कुरेर बस्ने हो भने भूकम्पको बहानामा गराई राखिएको आप्रवासनले मधेशीहरू कुन स्थितिमा पुग्नेछन्? एक दशक अगाडि,२०६२ साल तिर कति सशस्त्र प्रहरी मधेशमा थिए ? तर अधिकारको नाममा १० वर्ष कुरे पछि अहिले कसरी मोड-मोडमा बन्दुक लिएर उभेका छन्। यसरी नै कुर्दा-कुर्दै लाखौं मधेशीहरूको नाम मतदाता नामावलीबाट हटाइयो, लाखौंलाई नागरिकताविहीन बनाएर शरणार्थी बनाइयो, र लाखौं-लाख मधेशी युवाहरूलाई दासको रूपमा विदेशमा निर्यात गरियो। अब अझै पनि यसरी नै प्रतिक्षा गर्ने हो भने, अझ केही दिन नेपाली राज मैं हेरौं भन्ने मानसिकताले बस्ने हो भन्ने,मधेशीहरूको हालत वर्माको रोहिंग्या जस्तै हुन बेर लाग्ने छैन, आफ्नै भूमिमा मधेशीलाई भूमिहीन बनाउँदै, मधेशी आदिवासीलाई नै नागरिकताविहीन बनाउँदे, नेपाली सेना र सशस्त्र प्रहरी लगाएर मधेशीको अस्तित्वलाई सदाका लागि मेट्न बेर छैन। त्यही भएर अब प्रतिक्षा गर्नु पर्ने कुनै कारण छैन, कुनै औचित्य छैन। प्रष्ट रूपमा अस्तित्व नै मेटिन लागेको कगारमा मधेशीहरू खडा छन्, अब पनि उनीहरूलाई नेपाली संविधान र सत्ताबाट केही पाउने लोभ-लालच देखाएर दिग्भ्रमित गर्नु ठूलो अपराध हो, उनीहरूलाई सविनाश (‘एक्सटिंक्ट’) गर्नु नै हो । अब कुनै पनि हालतमा कुनै बिलम्ब नगरी मधेशीहरूले आफ्नो अस्तित्व र स्वतन्त्रताको अन्तिम संघर्ष शुरु गर्नु अपरिहार्य भएको छ, अब प्रतिक्षा हुनै सक्दैन।

* अबको दिशा: स्वतन्त्रताको लागि कम्तीमा सीधा जनमतसंग्रह

कुनै पनि लोकतान्त्रिक पद्धतिमा जनता नै सार्वभौमसत्तासम्पन्न हुन्छ। कुनै पनि कुराको अन्तिम निर्णय लिने अधिकार जनतासँग हुन्छ। नेपालमा २०४७ सालमा “लोकतन्त्र” आएपछि पनि जनताले आफ्ना प्रतिनिधि चुनेर उनीहरू मार्फत् आफ्ना माग प्रस्तुत गरे, चाहे त्यो संविधानसभाको चुनाव नै किन न होस्। वा, जनताले कुनै पार्टी वा आन्दोलनमा विश्वास गरेर त्यसमा लागे। तर आफूले जिताएर पठाएको पार्टी, नेता वा प्रतिनिधिले, वा आफू ज्यानै दिएर होमिएको आन्दोलनको नेतृत्वले जनतासँग विश्वासघात गरे। कोही बिके, कोही बाध्य भए। कुनै एउटा नेता, पार्टी वा मोर्चालाई त्यस्तो जिम्मेबारी दिएमा धोका हुने सम्भावना हुन्छ नै। माओवादीलाई विश्वास गरे, मधेशी जनअधिकार फोरमलाई विश्वास गरे, तर तिनीहरू नै एजेण्डाबाट लुप्त भए। कुनै बेला नेता र पार्टीहरूको भिन्न नियतले नै त्यस्तो भएको हुन्छ भने कतिपय ठाउँमा नेता वा पार्टीले चाहेरै पनि केही गर्न सकेको हुँदैन। त्यसैले, त्यस्तो धोकाबाट बच्न कुनै ‘बिचौलिया’ न राखेर जनता स्वयंलाई चुन्ने अधिकार दिनु पर्छ। ‘क्रिटिकल’ कुरामा धोकाबाट मुक्त हुन जनताले आफ्नो निर्णय गर्ने अधिकार आफ्नो हातमा प्रत्यक्ष रूपमै लिनु पर्दछ, जसको उपाय नै जनमतसंग्रह हो। कुनै नेतालाई मसीहा मानेर त्यसले मुक्ति दिलाइदेला भनेर विश्वास गर्ने हैन, कुनै पार्टीमाथि आस्था राखेर त्यसले मुक्ति दिलाइदेला भनेर लाग्ने हैन, बरु यो हरेक जनताले म सीधै निर्णय गर्न पाऊँ भनेर सबैजना लाग्ने अवस्था हो। जनतामा सार्वभौमसत्ता निहीत रहेको कुरा गर्ने, अनि जनतालाई चयन गर्न न दिने कुरा हुँदैन। जनमतसंग्रह भएमा कुनै नेतृत्व वा पार्टी वा बुद्धिजीवीले आफ्नो निर्णय अरूमाथि थोपर्ने कुरा पनि हुँदैन। जनताले चाहेका हुन् भन्ने हुन्छ, चाहेका छैनन् भने हुँदैन। अहिले काठमाडौंमा बसेर यस्तो हुनुपर्छ, उस्तो हुनुपर्छ भनेर अनेकौं विशेषज्ञहरू आ-आफ्नो सुझाव दिन लागि परेका छन्। तिनीहरूपछाडि समर्थन गर्ने जनता एउटै न भए पनि आफ्नो राजनीतिक र मिडिया पहुँचको प्रयोग गरी जनताको चाहना विपरीत व्यवस्था थोपर्ने काम गरिरहेका हुन्छन्, जनताको चाहनाको विपरीत कुरालाई प्रचार-प्रसार र लबिइङ गर्न परेका हुन्छन्। “देश टुक्राउन हुन्छ, टुक्राउनु हुन्न” भनेर कुनै पार्टीको अध्यक्ष वा कुनै विशेषज्ञ वा बुद्धिजीवीको आस्था जनतामाथि थोपर्ने होइन कि जनतालाई चयन गर्न दिउँ कि जनता के चाहन्छन्। जनमत-संग्रहको पक्षमा न उभिनु भनेको लोकतन्त्र र जनताको सार्वभौमसत्ता स्वीकार न गर्नु हो।

* आन्दोलनको शुरुवात्

आन्दोलनको शुरुवात् गर्न पहिला नेपालको संविधानसभाबाट केही दिन देखाउनका लागि मात्रै न भएर सधैंका लागि राजीनामा दिई, निर्वाचित सभासद्हरू र नागरिक समाजलाई मिलाएर, स्वतन्त्र मधेश देशको संसद्को घोषणा गरिनु पर्दछ।‘संविधानसभाको भत्ता पनि खाने, सत्ता पनि न छोडने अनि मधेशी जनतालाई पटक-पटक सडकमा मर्न लगाउने’ जुन जनताको गुनासो छ, त्यो प्रवृत्तिको पहिला अन्त्य गरेर मधेशी जनताको विश्वास पहिला हातमा लिनु पर्छ। स्वतन्त्र मधेशको संसद्को प्रथम बैठकमा ‘डिक्लेरेशन अफ् इन्डिपेन्डेन्स् (स्वतन्त्रताको घोषणा)’ पढेर सुनाउँदै विश्वका अन्य देशहरूबाट मधेश देशलाई मान्यता दिन आह्वान गर्नु पर्दछ। जननिर्वाचित सभासद्हरूद्वारा शान्तिपूर्ण रुपमा छुट्टै मधेशको संसद् घोषणा भएपछि विश्वलाई पनि त्यसलाई मान्यता दिन सजिलो हुनेछ। नेपाली साम्राज्यको संरचनालाई चरणबद्धरूपमा मधेशबाट फिर्ता लिन नेपाल सरकारसँग आह्वान गर्नु पर्दछ। मधेशी जनताको स्वतन्त्रताको चाहनामा रुकावट आए त्यसलाई सडक आन्दोलन मार्फत् जनताले सम्बोधन गर्नेछन्।

(डा. सी. के. राउत ‘स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन’ का संयोजक हुन्।)